ताज़ा खबर
 

जानिए कब और कैसे पूजा करने से होगा लाभ, इष्ट से मिलेगा वरदान

रात को 10 बजे से लेकर 11 बजे तक के बीच बिस्तर पर सोने जाने से पहले 2 मिनट निकालकर अपने इष्ट को याद करना चाहिए।

Author November 20, 2017 9:20 AM
जब भी पूजा करें सच्चे मन से और एकाग्र होकर ही करें, इससे सभी बिगड़े हुए काम बनने लगते हैं।

भगवान को शुक्रिया करना ही पूजा का अर्थ होता है। मनुष्य अपने स्वास्थ्य, खुशियों और संपन्नता के लिए पूजा करता है। प्रभु को धन्यवाद ज्ञापन करना ही पूजा का तात्पर्य माना जाता है। अपने ग्रहों के अनुसार पूजा करना लाभदायक माना जाता है, लेकिन मान्यताओं के अनुसार घर में मंदिर नहीं बनाया जाता है। यदि घर में मंदिर है तो अपने इष्ट का चित्र या 6इंच से छोटी प्रतिमा का स्तापन करना चाहिए। पूजा के दौरान व्यक्ति का चेहरा उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि पूजा करने से सभी को फल प्राप्त होता है, बिगड़े काम बनने लगते हैं। घर में पूजा करने के कुछ नियम होते हैं उनका हमेशा पालन करना चाहिए, इससे केवल ईष्ट प्रसन्न ही नहीं होते बल्कि आपको वरदान भी देते हैं।

पूजा में भगवान से जुड़ना होता है। दिन में किस समय और कितनी बार पूजा करना शुभ माना जाता है। सूर्योदय के समय या उसके थोड़े समय के अंदर पूजा करना शुभ माना जाता है। इसके बाद जब सूर्य बिल्कुल सिर पर आ जाता है तब बस दो मिनट के लिए ही ईश्वर को याद कर लेना चाहिए। इसके लिए जरुरी नहीं है कि आप अपने इष्ट की प्रतिमा के सामने ही बैठ कर उनका ध्यान करें। किसी भी स्थान पर होने पर ये पूजा की जा सकती है। इसके बाद जब सूर्य ढलता है या घर में शाम के समय लाइट जलते समय ईश्वर को याद करना चाहिए। इसे किसी दिखावे के रुप में नहीं करना चाहिए।

रात को 10 बजे से लेकर 11 बजे तक के बीच बिस्तर पर सोने जाने से पहले 2 मिनट निकालकर अपने इष्ट को याद करना चाहिए या उनका कोई मंत्र पढ़ना भी शुभ रहता है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग पूजा करते हुए सोते हैं उनका सुबह उठने तक का समय पूजा के समय में गिना जाता है। पूजा में किसी तरह का दिखावा, झूठ या पाखंड नहीं होना चाहिए। जब भी पूजा करें सच्चे मन से और एकाग्र होकर ही करें। इससे सभी बिगड़े हुए काम बनने लगते हैं। जो लोग मानते हैं कि कई बार पूजा करने से ग्रह बिगड़ जाते हैं और पाप लगने लगता है। ये बात एक भ्रम की तरह है ये तब होता है जब पूजा एकाग्र होकर या किसी दबाव में की जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App