ताज़ा खबर
 

ब्यूटी प्रोडक्टस से भी नहीं आ रहा चेहरे पर निखार, शुक्र ग्रह हो सकते हैं जिम्मेदार, ये उपाय करेंगे प्रसन्न

हजारों रुपए के प्रोडक्टस लगाने के बाद भी निखार नहीं आता है तो इसका कारण कुंडली में बैठा शुक्र ग्रह भी हो सकता है।

छहमुखी रुद्रक्ष के धारण करने से मन और वाचन दोनों मधुर होते हैं।

शुक्र ग्रह को आकर्षण और प्रेम का प्रतीक माना जाता है। शुक्र ग्रह से इंसान के अलावा पशु-पक्षी और प्रकृति भी प्रभावित होती है। इस ग्रह से प्रभावित व्यक्ति सुख-सुविधाओं से वंचित रहता है। उसके जीवन में खुशियां नहीं रहती और वह परेशान रहता है। माना जाता है जिस व्यक्ति पर शुक्र की कृपा होती है वह व्यक्ति आकर्षक और सुंदर बन जाता है। इसके साथ ही हर व्यक्ति में सुंदर दिखने की चाह होती है लेकिन प्राकृतिक कारणों से ये चाह हर किसी की पूरी नहीं होती है। कई बार हजारों रुपए के प्रोडक्टस लगाने के बाद भी निखार नहीं आता है तो इसका कारण कुंडली में बैठा शुक्र ग्रह भी हो सकता है। शुक्र ग्रह के दोष को दूर करके सुंदरता पाने के कुछ विशेष उपाय होते हैं। ज्योतिष विद्या के अनुसार इन उपायों को अपनाने से सिर्फ चेहरे में सुंदरता नहीं आती बल्कि व्यक्तित्व में भी बदलाव भी आता है।

– शुक्र से प्रभावित व्यक्तियों को गरीबों या मंदिर में दूध दान करना चाहिए।
– किसी शादीशुदा महिला को सुहाग का सामान दान करें। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है।
– शुक्रवार को 108 बार शुक्र मंत्र का जाप करें। शुक्र मंत्र है- द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:।

Read Also:
कर्जों से चाहिए मुक्ति तो करें शंख से भगवान कृष्ण का पूजन 
मंगल के क्रूर प्रभाव से होता है शरीर में खून कम, हर ग्रह देता है अपने बिगड़े होने का संकेत

– हर शुक्रवार शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं। साथ ही 108 बार ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें। रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें।
– शुक्रवार को हीरा, चांदी, मिश्री, सफेद वस्त्र, दही, सफेद चंदन आदि चीजों का दान करें। ऐसा करने से शुक्र दोष कम हो जाते हैं।
– शुक्र बीज के मंत्र का जाप करने से लोगों के दिलों में आपके लिए सम्मान उत्पन्न होता है। मंत्र- ‘ऊं द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:’

– शुक्रवार का व्रत करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं, और इससे आपके व्यक्तित्व में निखार आता है।
– छहमुखी रुद्रक्ष के धारण करने से मन और वाचन दोनों मधुर होते हैं, ये भगवान शिव का प्रिय माना जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App