ताज़ा खबर
 

अनंत चतुर्दशी की पूजा से सदैव बनी रहती है श्रीहरि विष्णु की कृपा, जानें पूजा विधि, मंत्र और अनंत सूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त

Anant Chaturdashi 2020 Importance: माना जाता है कि अनंत चतुर्दशी का व्रत सबसे पहले पांडवों ने किया था। मान्यता है कि भगवान विष्णु के पूजन से देवी लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं

Anant Chaturdashi 2020, Anant Chaturdashi 2020 date, Anant Chaturdashi Puja Vidhi, Mantra, Shubh muhuratकहा जाता है कि इस दिन व्रत कर विष्णु जी के अनंत रूपों का स्मरण करने से भगवान विष्णु की कृपा मिलती है।

Anant Chaturdashi 2020 Date: अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi 2020) का दिन भगवान विष्णु की पूजा के लिए विशेष माना जाता है। इस साल अनंत चतुर्दशी 1 सितंबर, मंगलवार को मनाई जाएगी। हिंदू पंचांग के मुताबिक हर साल भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी मनाई जाती है। कहते हैं कि जो व्यक्ति इस दिन भगवान विष्णु के अनंत रूपों की आराधना करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन विष्णु जी के अनंत स्वरूपों के पूजन का विधान है। भगवान विष्णु के भक्त इस दिन व्रत रखते हैं। कहा जाता है कि इस दिन व्रत कर विष्णु जी के अनंत रूपों का स्मरण करने से भगवान विष्णु की कृपा मिलती है। अनंत चतुर्दशी की पूजा कर अनंत सूत्र (Anant Sutra) बांधा जाता है।

अनंत चतुर्दशी पूजा विधि (Anant Chaturdashi Puja Vidhi):

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें। स्नान कर पवित्र हो जाएं।
पूजन स्थल की सफाई कर, उसे गंगाजल से पवित्र करें।
पूजन स्थल पर एक चौकी लगाएं। उस पर पीला कपड़ा बिछाएं।
कपड़े पर कुमकुम से स्वास्तिक बनाएं। चावल और फूल से स्वास्तिक का पूजन करें।
चौकी पर भगवान विष्णु की प्रतिमा विराजमान करें।
प्रभु के मस्तक पर चंदन का तिलक लगाएं। साथ ही फूल, तुलसी का पत्ता और फूलों का हार चढ़ाएं।
दीपक जलाएं। भगवान विष्णु का चालीसा और स्तुति गाएं।
भगवान विष्णु के अनंत स्वरूपों को याद करें। उनके सभी स्वरूपों का जयकारा लगाएं।
एक डोरी लें। उसे हल्दी के पानी में भिगोएं। फिर उसे निकाल कर। उस धागे पर 14 गांठें बांधें।
भगवान विष्णु को यह अनंत सूत्र अर्पित करें।
फिर भगवान विष्णु की आरती करें।

अनंत चतुर्दशी मंत्र (Anant Chaturdashi Mantra):

अनंत संसार महासुमद्रे मग्रं समभ्युद्धर वासुदेव।
अनंतरूपे विनियोजयस्व ह्रानंतसूत्राय नमो नमस्ते।।

अनंत सूत्र बांधते हुए इस मंत्र का उच्चारण करें। साथ ही संभव हो तो इस मंत्र का 2 माला जाप भी करें। अगर आप इससे अधिक जाप करने में समर्थ हैं तो जरूर करें।

अनंत चतुर्दशी शुभ मुहूर्त/ अनंत सूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त (Anant Chaturdashi 2020 Shubh Muhurat):

चतुर्दशी शुभ मुहूर्त – 1 सितंबर, मंगलवार – सुबह 05:59 ए एम से 09:38 ए एम तक
चतुर्दशी तिथि आरंभ – 31 अगस्त, सोमवार – सुबह 08 बजकर 48 मिनट से
चतुर्दशी तिथि समाप्त – 1 सितंबर, मंगलवार – सुबह 09 बजकर 38 मिनट तक

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शनि साढ़ेसाती का प्रकोप राजा को बना सकता है रंक, इन 4 उपायों को करने से इससे मुक्ति मिलने की है मान्यता
2 सपने में दिखते हैं पितृ, जानिये स्वप्न शास्त्र के अनुसार क्या होता है इसका फल
3 तनाव करना हो दूर या शिक्षा में चाहते हैं बेहतर प्रदर्शन, गणेश रुद्राक्ष धारण करने से मिल सकती है मदद
IPL 2020
X