ताज़ा खबर
 

शास्त्रों के अनुसार इन पांच पर कभी नहीं करना चाहिए अविश्वास

ग्रंथों में मंत्रों का विशेष महत्व बताया है। कहा गया है कि मंत्र हमें देवी-देवताओं के करीब लाने का काम करते हैं।

सांकेतिक फोटो

कई बार देखा गया है कि जब हमारी इच्छा पूरी नहीं होती या सकारात्मक फल नहीं मिलता तो व्यक्ति नाराज हो जाता है। इस पर हमारें धर्म ग्रंथों में कहा गया है कि व्यक्ति को भगवान पर विश्वास नहीं छोड़ना चाहिए। जब व्यक्ति देवी-देवताओं पर भरोसा करना छोड़ देता है तो आपकी सोच के मुताबिक फल नहीं मिलता। कहा गया है कि हो सकता है कि भगवान आपकी परीक्षा ले रहे हों।

ग्रंथों में मंत्रों का विशेष महत्व बताया है। कहा गया है कि मंत्र हमें देवी-देवताओं के करीब लाने का काम करते हैं। देखा जाता है कि कई बार लोग मंत्रों में विश्वास नहीं करते। जिसका बहुत नकारात्मक फल मिलता है। मंत्रों का कभी गलत उच्चारण नहीं करना चाहिए।

ग्रंथों में लिखा गया है कि जो व्यक्ति को अपने जीवन में गुरु द्वारा दी गई शिक्षा पर भरोसा नहीं करता तो उसे जीवन में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता। व्यक्ति को पूरी श्रद्धा और भरोसे से अपने गुरु की शिक्षा का पालन करना चाहिए। अगर आप अपने गुरु की शिक्षा पर भरोसा नहीं करते हैं तो जीवन में कभी सफल नहीं हो सकते।

जो लोग नकारात्मक भावनाओं के साथ तीर्थ यात्रा करने जाते हैं उन्हें कभी पुण्य नहीं मिलता। अगर किसी मनुष्य की भावना अच्छी न रहे तो तीर्थ-दर्शन का फल नहीं मिलता। व्यक्ति को हमेशा सकारात्मक भाव के साथ तीर्थ यात्रा पर जाना चाहिए।

कई बार देखा जाता है कि हम डाक्टरों की सलाह का ध्यान नहीं रखते और बिना सोचे समझे कुछ भी खा लेते हैं। अगर हम डॉक्टरों की सलाह को नजर अंदाज करते हैं तो ये हमारी सेहत के लिए अच्छी बात नहीं होती।

ग्रंथों में कहा गया है कि जो लोग ब्राह्मणों पर यकीन नहीं करता है उसे कभी अपनी कामों का फल नहीं मिलता है। यही कारण है कि आपको कभी अपनी जिंदगी में श्रेष्ठ और योग्य ब्राह्मणों पर अविश्वास नहीं करना चाहिए।

कई लोग ज्योतिष विद्या पर भरोसा नहीं करते और ज्योतिषियों के पास सलाह के लिए चले आते हैं। ऐसे लोग कितना भी कुछ कर लें। उनकी परेशानी का कोई हल नहीं निकलता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App