ताज़ा खबर
 

हस्तरेखा शास्त्र: जानिए क्या कहते हैं आपकी उंगलियों में बने ‘चक्र’

महिला हो या पुरुष अगर किसी की दस उंगलियों में दो-दो चक्र बना हुआ है तो ऐसे लोगों का जीवन संघर्ष से भरा होता है।

Palmistry, hastrekha shastra, circle of fingers, circle on fingers, about life line, about brain line, about fate line, bhagya rekha, jivan rekha, hriday rekha, heart line, fate line on palm, life line on palm, vivah rekha, उंगलियों में बने चक्र, हस्तरेखा शास्त्र, जीवन रेखा, भाग्य रेखा, विवाह रेखा, religion newsसांकेतिक तस्वीर।

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली की रेखाओं के देखकर इंसान के बारे में बहुत कुछ जानकारी हासिल की जाती है। जिस प्रकार हथेली पर मौजूद विभिन्न रेखाएं इंसान के जीवन से संबंधित अहम बातों को बताती है। ठीक उसी प्रकार उंगलियों में बने खास चिह्न कुछ विशेष बातें बताती हैं। हम जब अपनी हथली में ध्यान से देखते हैं तो हमें चक्र की आकृति नजर आती है। हस्तरेखा शास्त्र के जानकार बताते हैं कि ये आकृति विशेष बातों को दर्शाती है। आगे जानते हैं क्या कहते हैं उंगलियों में बने चक्र।

हस्तरेखा शास्त्र के हर इंसान की हथेली में बनी चक्र की आकृति अगल-अलग होती है। सभी के हाथ में ये बिलकुल गोल-गोल नहीं बने होते हैं। साथ ही सभी के हाथ में चक्र नहीं बने होते हैं। महिला हो या पुरुष अगर किसी की दस उंगलियों में दो-दो चक्र बना हुआ है तो ऐसे लोगों का जीवन संघर्ष से भरा होता है। वहीं अगर इसी चक्र आकृति के साथ किसी की हथेली की भाग्य रेखा अच्छी है तो जीवन में संघर्ष कम होता है। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार यदि उंगलियों में तीन-तीन चक्र बने हुए हैं तो ऐसे लोग जॉब में लाभ कमाता है। साथ ही अगर उंगलियों के पोर पर चार-चार चक्र बने हुए हैं तो यह इंसान की निर्धनता को दर्शाता है।

इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति की हथेली में पांच-पांच चक्र मौजूद हैं तो ऐसा व्यक्ति या तो बहुत अच्छे व्यापार में होता है या कोई बड़ा ऑफिसर बनता है। जिस व्यक्ति की हथली में छह-छह चक्र की आकृति बनी होती है तो व्यक्ति बहुत अच्छे व्यापार को अंजाम देता है। परंतु ऐसे व्यक्ति का व्यापार उसके होश संभालने के बाद बढ़ता है। वहीं अगर किसी व्यक्ति की हथेलियों में आठ-आठ चक्र होता है तो वह चक्रवर्ती सम्राट होता है। उज्जैन के सम्राट विक्रमादित्य की उंगलियों में आठ-आठ चक्र बने हुए थे। ऐसा उल्लेख हस्तरेखा शास्त्र में मिलता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चाणक्य नीति: ऐसे धर्म, स्त्री और गुरुओं का कर देना चाहिए त्याग
2 जानिए, देवी-देवताओं को क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए ‘बासी फूल’
3 शनि, राहु और केतु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए लाजवर्त रत्न धारण करने की दी जाती है सलाह, जानिए पहनने की विधि