ताज़ा खबर
 

चाणक्य नीति: सिर्फ मेहनत करने से नहीं मिलती सफलता, इन 3 बातों का हमेशा रखना चाहिए ध्यान

आचार्य चाणक्य कहते हैं किसी भी मनुष्य की वर्तमान स्थिति को देखकर उसके भविष्य का उपहास नहीं उड़ना चाहिए। क्योंकि समय में इतनी शक्ति है कि वो मामूली से कोयले को भी धीरे-धीरे हीरे में परिवर्तित कर देता है।

acharya chanakya, chanakya niti, chanakya niti in hindi, chanakya niti on success, chanakya niti for motivation, chanakya thoughts success, chanakya thoughts hindi, chanakya thoughts about time, chanakya thoughts about fate, Chanakya Thought on Luck, chanakya, religion newsआचार्य चाणक्य।

आज के प्रतिस्पर्धा वाले समय में हर इंसान सफल होना चाहता है। इसके लिए वह हर तरह से प्रयास भी करता है। परंतु सफलता के आगे कोई न कोई रुकावट आ जाती है और मनुष्य अपना धैर्य खो देता है। सफलता के लिए आचार्य चाणक्य ने भी कुछ बातें बताई हैं। इनके अनुसार केवल मेहनत करने से ही सफलता नहीं मिलती है। इसके लिए चाणक्य ने बताया है कि मनुष्य को अपने जीवन में कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। इसी विषय पर आगे हम जानते हैं कि किन तीन बातों का ध्यान हर इंसान को रखना चाहिए।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को अपने कर्म पर विश्वास रखना चाहिए न की राशि और भाग्य पर। क्योंकि राशि तो राम और रावण दोनों की एक ही थी। परंतु नियति में उन्हें फल, उनके कर्म के अनुसार प्रदान किया। आचार्य चाणक्य कहते हैं किसी भी मनुष्य की वर्तमान स्थिति को देखकर उसके भविष्य का उपहास नहीं उड़ना चाहिए। क्योंकि समय में इतनी शक्ति है कि वो मामूली से कोयले को भी धीरे-धीरे हीरे में परिवर्तित कर देता है। इसके आगे चाणक्य कहते हैं कि इंसान की अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं लेकिन चर्चा यदि उसकी बुराई की हो तो गूंगे भी बोल पड़ते हैं। सिर्फ पानी से नहाने वाला कभी सफल नहीं होता बल्कि पसीने से नहाने वाला व्यक्ति व्यक्ति ही दुनिया बदलते हैं।

आचार्य चाणक्य के अनुसार यदि कोई व्यक्ति जीवन में आगे बढ़ाना चाहता है तो उसे बहरे हो जाना चाहिए। क्योंकि अधिकांश लोगों की बातें मनोबल गिराने वाली होती हैं। इसके बाद चाणक्य कहते हैं मनुष्य को अपनी जिंदगी की तुलना अन्य लोगों के साथ नहीं करनी चाहिए। इस पर चाणक्य ने आगे कहा कि सूर्य और चंद्रमा दोनों ही चमकते हैं लेकिन अपने-अपने समय पर। साथ ही उन्होंने कहा कि जीवन में दो प्रकार के लोग ही असफल होते हैं। पहला वो जो सोचते हैं पर करते नहीं। वहीं दूसरा वह होता है जो करता है लेकिन सोचता नहीं।

फिर चाणक्य ने कहा कि जब तक मनुष्य दौड़ने का साहस नहीं जुटाता तब तक उसके लिए प्रतिस्पर्धा में जीतना मुश्किल है। चंद्रगुप्त ने आचार्य चाणक्य से पूछा कि अगर किस्मत पहले ही लिखी जा चुकी है तो कोशिश करने से क्या मिलेगा? इस पर चाणक्य ने उत्तर दिया कि क्या पता किस्मत में लिखा हो कि कोशिश करने से ही मिलेगा। इसलिए मनुष्य को जीवन में सफलता पाने के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जानिए, क्यों करते हैं हाथ जोड़कर नमस्ते और क्या बताए गए हैं इसके धार्मिक और वैज्ञानिक फायदे
2 प्रवचनकर्ता सुधांशु जी महाराज के अनुसार जानिए, बच्चों के सामने कैसा होना चाहिए माता-पिता का व्यवहार
3 जानिए, मंत्र जाप करते समय किस प्रकार माला पकड़ना माना जाता है शुभ
ये पढ़ा क्या?
X