ताज़ा खबर
 

चाणक्य नीति: ऐसे धर्म, स्त्री और गुरुओं का कर देना चाहिए त्याग

प्रेम और दया के अभाव में कोई भी धर्म अहिंसा का ही उपदेश दे सकता है। इसलिए इंसान को ऐसे धर्म को छोड़ देना चाहिए।

Author नई दिल्ली | June 27, 2019 2:07 PM
आचार्य चाणक्य।

आचार्य चाणक्य की नीतियां आज भी हर इंसान के लिए बहुत उपयोगी है। चाणक्य नीति नाम की पुस्तक में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो भी व्यक्ति नीतियों का अक्षरशः पालन करेगा उसे जीवन में सभी सुख-सुविधाएं प्राप्त होगी। साथ ही वह अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करेगा। चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में धर्म, स्त्री और गुरुओं से संबंधित कुछ गूढ़ और आवश्यक बातें बताई है। इसमें चाणक्य बताते हैं कि मनुष्य को कैसे धर्म, कैसी स्त्री और किस प्रकार के गुरुओं का त्याग कर देना चाहिए। चाणक्य नीति के अनुसार आगे इसे जानते हैं।

धर्म के बारे में चाणक्य कहते हैं कि यदि किसी धर्म में दया का उपदेश नहीं दिया गया हो तो उस धर्म का त्याग कर देना ही बेहतर है। ऐसा इसलिए क्योंकि दया ही मानवता का मुख्य कर्तव्य है। प्रेम और दया के अभाव में कोई भी धर्म अहिंसा का ही उपदेश दे सकता है। इसलिए इंसान को ऐसे धर्म को छोड़ देना चाहिए। चाणक्य ने दूसरी बात गुरुओं के बारे में कही है। जिसमें उन्होंने कहा है कि किसी भी गुरु का कर्तव्य है कि वो अपने शिष्य को ज्ञान दें। अगर कोई गुरु विद्वान नहीं है तो उसे छोड़ देना चाहिए, क्योंकि अज्ञानी गुरु का कोई महत्व नहीं है।

तीसरी बात आचार्य चाणक्य ने पत्नी के बारे में बताई है। जिसमें आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यदि किसी व्यक्ति की पत्नी हमेशा गुस्से में रहती है। साथ ही पति से प्रेम नहीं करती है और पतिधर्म का पालन नहीं कर रही है या फिर हमेशा पति को दुख देती रहती है तो ऐसे में इंसान को पत्नी का त्याग कर देना चाहिए। इस संबंध में चाणक्य कहते हैं कि पति और पत्नी का रिश्ता सात जन्मों का है। कई विपरीत परिस्थितियों में भी पति-पत्नी एक दूसरे का साथ निभाते हैं। अगर पत्नी सर्वगुण सम्पन्न है तो दोनों का जीवन सुखमय बना रहता है। परंतु हमेशा क्रोधित रहने वाली है तो जीवन में हमेशा मानसिक तनाव बना रहता है। इसलिए इंसान को ऐसी पत्नी का त्याग कर देना चाहिए जो हमेशा क्रोध में रहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App