ताज़ा खबर
 

इन 3 रिश्तों पर कभी ना करें विश्वास, जानिये क्या कहती है चाणक्य नीति

चाणक्य सभी विषयों को बहुत गहनता से समझते थे। वह अपने बारे में, राज्य के बारे में और राज्य की प्रजा के बारे में हर एक बहुत सोच समझ के लिया करते थे।

chanakya niti, chanakya niti on believe, chankya neetiचाणक्य को चतुर और विषयों की गहरी समझ रखने वाला माना जाता है।

Chanakya Niti on Believe : चाणक्य को चतुर और विषयों की गहरी समझ रखने वाला माना जाता है। इतिहास के जानकारों का मानना है कि चाणक्य सभी विषयों को बहुत गहनता से समझते थे। वह अपने बारे में, राज्य के बारे में और राज्य की प्रजा के बारे में हर एक बहुत सोच समझ के लिया करते थे। इसलिए ही उन्हें वर्तमान समय में भी पूजनीय माना जाता है। ज्यादातार लोग कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले उस विषय पर चाणक्य के विचार जानने की कोशिश करते हैं।

माना जाता है कि चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में बताई गई बातें सत्य पर आधारित होती हैं। इसलिए इन बातों को मानकर ही जीवन से जुड़े विषयों के बारे में कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेना चाहिए। चाणक्य नीति में चाणक्य बताते हैं कि किसी भी सांसारिक व्यक्ति को किसी पर भी आंख बंद करके विश्वास नहीं करना चाहिए। इस तरह किसी पर विश्वास करना विश्वासघात को जन्म देता है। चाणक्य मानते हैं कि किसी पर भी विश्वास करने से पहले उसे दस बार विश्वास की कसौटी पर परख लेना चाहिए। उनका कहना है कि कभी भी इन तीन लोगों पर विश्वास नहीं करना चाहिए।

लालची स्त्री से बनाएं दूरी
विद्वानों का मानना है कि चाणक्य नीति में यह लिखा गया है कि किसी भी व्यक्ति को लालची स्त्री पर विश्वास नहीं करना चाहिए। उस स्त्री पर कभी विश्वास न करें जो स्त्री धन, संपत्ति, गहने, भवन, सुख और संभोग की कामना से पुरुष के पास आती है। समय और हालातों के बदलने पर ऐसी स्त्री धोखेबाज साबित हो सकती है। इसलिए ऐसी स्त्रियों से बचकर रहें।

प्रतिद्वंदी होता है विश्वासघाती
किसी भी व्यक्ति को अपने प्रतिद्वंदी पर विश्वास नहीं करना चाहिए। जो व्यक्ति अपने प्रतिद्वंदी पर भरोसा करता है वह निश्चित तौर पर धोखा खाता है। प्रतिद्वंदी के रूप में चाहें आपका सगा संबंधी या भाई क्यों न हो उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए। चाणक्य मानते हैं कि जब कोई व्यक्ति किसी प्रतियोगिता में होता है तो उसे सभी रिश्ते नाते भुलाकर केवल जीत को अपना लक्ष्य बनाना चाहिए।

नए दोस्त नहीं विश्वास के काबिल
चाणक्य नीति में चाणक्य ने यह कहा है कि नए दोस्त पर यकीन नहीं करना चाहिए। क्योंकि चार दिन के लिए दोस्ती करने वाले लोगों के साथ में उनका कोई न कोई स्वार्थ जुड़ा होता है। इसलिए वह सच्चे मन से दोस्ती का रिश्ता नहीं निभाते हैं। ऐसे लोगों पर विश्वास करना मूर्खता का परिचय देना है। भूल से भी कभी कुछ समय पुराने दोस्त पर विश्वास न करें। यह आपके लिए भविष्य में समस्या खड़ी कर सकता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Horoscope Today,11 September 2020: मकर वालों को संयम और साहस का मिलेगा लाभ, इस वजह से सिंह वालों का बढ़ सकता है तनाव
2 इन चार लोगों को कभी न दें धन, होगा भारी नुकसान, जानिये क्या कहती है विदुर नीति
3 वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में इन 5 चीजों को रखने से आता है धन, जानिये
India vs Australia 1st ODI Live
X