ताज़ा खबर
 

Chanakya Niti: चाणक्य की इन नीतियों को अपनाने से दुश्मनों को किया जा सकता है परास्त

Chanakya Niti: चाणक्य ने आगे बताया कि दुश्मनों को दूर से ही देखकर अपना रास्ता बदल लेना चाहिए यानी इनसे पूरी तरह बचकर रहना चाहिए। इनसे कोई मतलब नहीं रखना चाहिए।

chanakya niti: चाणक्य ने बताया है कि दुश्मनों से दूर रहना चाहिए। प्रतीकात्मक तस्वीर।

Chanakya Niti, Dushman ko kaise haraye: दोस्त के साथ साथ दुश्मन भी हर किसी की जिंदगी में होते ही हैं। पर अक्सर हमारे मन की परेशानी यही होती है कि आखिर हम दुश्मनों से कैसे पेश आएं, या क्या तरीका होना चाहिए उनसे निपटने का। मगध से घनानंद जैसे क्रूर शासक को हटाकर चंद्रगुप्त मौर्य को सिंहासन पर बैठाने वाले आचार्य चाणक्य ने इस संबंध में कई नीतियां बताई हैं। आइए जानते हैं कि चाणक्य ने दुश्मनों पर विजय प्राप्त करने के लिए वो कौन सी नीति बताई थी जिसके बूते वो हमेशा कामयाब हुए।

– अर्थशास्त्र, राजनीति और कूटनीति के ज्ञाता चाणक्य ने बताया है कि अगर आप लोगों से अच्‍छा व्यवहार करेंगे तो, आप दुश्‍मनों को भी अपना दोस्‍त बना सकते हैं, इससे आपको कामयाब होने से कोई नहीं रोक सकता। दुश्मन की कमजोर नस पर चोट करें,लेकिन जब दुश्मन की कमजोरी न मालूम हो तो उससे दोस्ती रखें।

खलानां कण्टकानां च द्विविधैव प्रतिक्रिया..
उपानन्मुखभङ्गो वा दूरतो वा विसर्जनम्..

– चाणक्य ने इस श्लोक में दुष्ट लोगों को यानी शत्रुओं और कांटे को एक जैसा माना है। आचार्य चाणक्य के अनुसार दुष्ट लोगों और कांटे से 2 ही तरह से बचा जा सकता है। चाणक्य कहते हैं कि इन्हें जूतों से या जो भी साधन उपलब्ध हो उससे पूरी तरह कुचल देना चाहिए। चाणक्य ने आगे बताया कि दुश्मनों को दूर से ही देखकर अपना रास्ता बदल लेना चाहिए यानी इनसे पूरी तरह बचकर रहना चाहिए। इनसे कोई मतलब नहीं रखना चाहिए।

– चाणक्य कहते हैं कि अपने दुश्मन की हर कमजोरी और मजबूती को जानें। चाणक्य का कहना है कि आप अपने शत्रु को एक तिहाई उसी वक्त हरा देते हैं जब आप उसके बारे में हर जानकारी हासिल कर लेते हैं।

– चाणक्य के मुताबिक कभी भी अपने शत्रु से घृणा न करें, इससे आपकी तार्किक शक्ति मर जाती है। उनके साथ एक खिलाड़ी की तरह पेश आएं।

– अपने शत्रु को कभी भी अपने से कमतर न आंकें। हमेशा सतर्क और सावधान रहें। उसकी हर गतिविधि पर नज़र रखें, चाहें वो आपसे जुड़ी हो या नही- चाणक्य नीति कहती है कि आप अपने दुश्मन के साथ सिर्फ दिमाग से लड़ें तो बेहतर होगा। लड़ाई या हाथापाई आखिरी विकल्प होना चाहिए। हमेशा ठंडे दिमाग से अपने शत्रु के खिलाफ चालों को चलें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Rishi Panchami 2019, Vrat Vidhi, Katha and Shubh Muhurat: ऋषि पंचमी के व्रत में अनिवार्य है महिलाओं का ये कथा पढ़ना, जानिए पूजा विधि और महत्व
2 Finance Horoscope Today, September 3, 2019: सिंह राशि वालों को नौकरी में पदोन्नति की संभावना, जानें वित्त राशिफल
3 लव राशिफल 3 सितंबर 2019: तुला राशि वालों का टूट सकता है लव रिलेशन, इस राशि के जातकों का वैवाहिक जीवन रहेगा सुखमय
ये पढ़ा क्या?
X