ताज़ा खबर
 

वाईएसआर सदस्य साल भर के लिए निलंबित, आंध्र प्रदेश विधानसभा में हंगामा

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ कथित ‘आपत्तिजनक’ टिप्पणी करने के लिए वाईएसआर कांग्रेस पार्टी विधायक आरके रोजा के एक साल के लिए निलंबन पर सदन में हंगामे के कारण राज्य विधानसभा की कार्यवाही शनिवार को दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई..
Author हैदराबाद | December 19, 2015 23:31 pm
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ कथित ‘आपत्तिजनक’ टिप्पणी करने के लिए वाईएसआर कांग्रेस पार्टी विधायक आरके रोजा के एक साल के लिए निलंबन पर सदन में हंगामे के कारण राज्य विधानसभा की कार्यवाही शनिवार को दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। सरकार ने शोरगुल के बीच सदन के पटल पर छह विधेयक रखे। नेता प्रतिपक्ष और वाईएसआरसीपी प्रमुख वाईएस जगमोहन रेड्डी ने निलंबन को नियमों के विरुद्ध बताया और विधानसभा अध्यक्ष कोडेला शिवप्रसाद राव से अपने निर्णय को वापस लेने की मांग की।

नियमावली का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि स्पष्टीकरण का एक मौका दिए बगैर अध्यक्ष उनको निलंबित नहीं कर सकते। उन्होंने आरोप लगाया कि अध्यक्ष को नियमावली का पालन करना चाहिए ना कि सत्तारूढ़ दल के निर्णय का। अध्यक्ष ने उन्हें बताया कि नेता प्रतिपक्ष उनके निर्णय पर सवाल नहीं खड़ा कर सकते, उन्होंने सदन द्वारा शुक्रवार को लिए गए फैसले की घोषणा भर की है। इसके बाद वाईएसआरसीपी सदस्य अध्यक्ष के आसन के सामने चले गए और नारेबाजी करने लगे।

वित्त मंत्री यानामाला रामाकृष्णुदू ने स्पष्ट तौर पर कहा कि मुद्दे की गंभीरता के कारण रोजा के निलंबन को वापस लेने का सवाल नहीं उठता। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने संक्षिप्त समय के लिए विधानसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी और जब कार्यवाही फिर से आरंभ हुई तो सरकार ने विधेयक पेश किए।

इसी बीच पुलिस ने रोजा को हिरासत में ले लिया क्योंकि निलंबन के बावजूद उन्होंने शनिवार सुबह विधानसभा परिसर में प्रवेश किया। इसी बीच धक्कामुक्की में वे बेहोश हो गईं और इलाज के लिए उनको एनआइएमएस ले जाया गया। अस्पताल में रोजा से मिलने के बाद जगन ने कहा कि जरूरत पड़ने पर वे अध्यक्ष की व्यवस्था के खिलाफ अदालत भी जा सकते हैं। रोजा के एक वर्ष के निलंबन की घोषणा करते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने विधायिका की पवित्रता और उच्च मानकों को बनाये रखने पर बल दिया था। इसके बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए रोजा ने कहा कि उन्होंने किसी भी तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग नहीं किया था और उनको सिर्फ इसलिए निलंबित किया गया कि तेदेपा उनका सामना नहीं कर सकी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.