ताज़ा खबर
 

योगी कैबिनेट का फैसलाः बुंदेलखंड-गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के लिए कंपनियां फाइनल, 60 हजार Jobs का ऐलान

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का काम छह पैकेज में होगा जिसके लिए चार कंपनियों को चुना गया है। एक्सप्रेस-वे के निर्माण में 36 महीने लगने का अनुमान है लेकिन सरकार का मानना है कि इसे 30 महीनों ही पूरा कर लिया जाएगा।

Author लखनऊ | Published on: November 12, 2019 9:59 AM
उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ, फाइल फोटो (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट की बैठक में बुंदेलखंड और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए कंपनियों के नाम फाइनल कर लिया गया है। साथ ही इन नामों पर कैबिनेट की मंजूरी भी मिल गई है। इन एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए 60 हजार नौकरियां निकलेंगी। सरकार के प्रवक्ता व कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि गोरखपुर एक्सप्रेस-वे दो पैकेज में बनेगा और इसके लिए दो फर्मों का चुनाव किया गया है।

30 महीने में बनकर तैयार होगा एक्सप्रेस-वे: बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का काम छह पैकेज में होगा जिसके लिए चार कंपनियों को चुना गया है। एक्सप्रेस-वे के निर्माण में 36 महीने लगने का अनुमान है लेकिन सरकार का मानना है कि इसे 30 महीनों ही पूरा कर लिया जाएगा। यह फैसला सोमवार (11 नवंबर ) को लिया गया है।

Hindi News Today, 12 November 2019 LIVE Updates: देश दुनिया की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

नगर पंचायतों में टैक्स वसूलने के लिए नियमवाली बनाने का निर्णय:  बता दें कि सोमवार (11 नवंबर) को सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में प्रदेश की नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में टैक्स वसूलने के लिए नियमवाली बनाने का निर्णय लिया गया है। इससे पहले सरकार नगर निगम में लागू संपत्ति नियमावली के अधार पर ही संपत्ति कर वसूले जा रहे थे। अब नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में प्रॉपर्टी टैक्स, हाउस टैक्स, वॉटर या सीवेज टैक्स वसूलने की नियमावली लागू की जाएगी। नियमावली को तैयार करने के लिए सरकार की तरफ से अनुमति दे दी गई है।

प्रदेश में शांति के लिए सीएम का आभार व्यक्त किया: प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि कैबिनेट ने अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रदेश में शांति व्यवस्था बनाए रखने पर सीएम और जनता दोनों को बधाई दी और आभार जताया। इतने बड़े फैसले के बाद सीएम के अगुवाई में प्रदेश में कानून व्यवस्था स्थापित रही और कहीं भी कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। इसके लिए कैबिनेट उन्हें आभार व्यक्त किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कर्नाटक के अयोग्य घोषित विधायकों की याचिकाओं पर फैसला 13 नवंबर को
जस्‍ट नाउ
X