ताज़ा खबर
 

मायावती से 5 महीने पहले खाली करवाया था सरकारी बंगला, योगी सरकार ने शिवपाल यादव को दिया

योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने मायावती द्वारा खाली किया गया बंगला सपा के बगावती नेता शिवपाल यादव को आवंटित कर दिया है। मायावती ने मई में यह आलीशान सरकारी बंगला खाली किया था।

Uttar Pradesh, Chief Minister Yogi Adityanat, Mayawati, Shivpal Yadav, Former CM Akhilesh Yadav, 6 Lal Bahadur Shastri Marg, मायावती, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ, शिवपाल यादवयह है लखनऊ के 6 लाल बहादुर शास्‍त्री मार्ग स्थित बंगला जिसमें कभी मायावती रहती थीं। अब इसमें सपा के बगावती नेता और उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव रहेंगे। (फोटो सोर्स: पीटीआई)

उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने एक चौंकाने वाला फैसला लिया है। राज्‍य सरकार ने लखनऊ के 6 लाल बहादुर शास्‍त्री मार्ग स्थित बंगला सपा के बगावती नेता और यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव को आवंटित कर दिया गया है। शिवपाल ने बताया कि वह वरिष्‍ठ विधायक हैं, जिसके कारण उन्‍हें बड़े बंगले की जरूरत भी थी। उनका कहना है कि प्रदेश सरकार ने उनकी जरूरतों को देखते हुए यह फैसला लिया है। हालांकि, शिवपाल ने स्‍पष्‍ट कर दिया कि वह हमेशा से बीजेपी के खिलाफ रहे हैं। सपा के बगावती नेता ने कहा कि भाजपा से उनका कोई साठगांठ नहीं है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 7 मई, 2017 को एक आदेश दिया था, जिसके बाद प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्रियों मायावती, अखिलेश यादव, मुलायम सिंह यादव, राजनाथ सिंह आदि को सरकारी बंगले खाली करने पड़े थे। इनमें से मायावती द्वारा खाली किए गए सरकारी बंगले को शिवपाल को आवंटित कर दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इतना आलीशान बंगला योगी के किसी मंत्री को भी नहीं दिया गया है।

मायावती ने की थी कांशीराम स्‍मारक बनाने की मांग: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने इस साल 29 मई को बंगला खाली किया था। उन्‍होंने 73 लाख रुपये का बिजली का बिल रसीद समेत सरकार को सौंपी थी। पूर्व सीएम ने बंगले की चाबी स्‍पीड पोस्‍ट के जरिये भेजी थी। मायवती को मुख्‍यमंत्री की हैसियत से बंगला नंबर छह आवंटित किया गया था। इसके बाद बसपा का एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से मुलाकात की थी। बसपा नेताओं ने सीएम को बताया था कि इस बंगले को वर्ष 2011 में कांशीराम स्‍मारक के तौर पर बदल दिया गया था। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जब मायवती को बंगला खाली करने का नोटिस दिया गया था तो उन्‍होंने 21 मई को सरकारी बंगले के बाहर ‘कांशीराम जी यादगार विश्राम स्‍थल’ का बोर्ड लगा दिया था।

आलीशान है बंगला: शिवपाल यादव को जो बंगला आवंटित किया गया है, वह बेहद आलीशान है। इसमें 12 बेडरूम, 12 ड्रेसिंग रूम, दो बड़े हॉल, 4 बरामदे, 2 किचन और स्‍टाफ क्‍वार्टर हैं। इसके अलावा बंगले में 8 एसी प्‍लांट, और 500 किलावॉट के साउंड प्रूफ जेनरेटर लगे हैं। योगी सरकार के इस फैसले के राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं। बताया जाता है कि शिवपाल यादव इस बंगले का इस्‍तेमाल सामाजिक सेक्‍युलर मोर्चा के संचालन के लिए कर सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आतंकी मन्नान को बताया था शहीद, पढ़ी थी नमाज, AMU ने 3 को किया सस्पेंड
2 तमिलनाडुः भ्रष्टाचार पर सख्त हुआ हाईकोर्ट, सीएम के खिलाफ दिए CBI जांच के आदेश
3 मुलायम सिंह के साथ दिखे शिवपाल, कहा- बीजेपी से नहीं मिलाएंगे हाथ
ये पढ़ा क्या?
X