ताज़ा खबर
 

9 दिन बाद बदली सीएम हाउस में लगी नेम प्लेट, लिखा गया- ‘योगी आदित्य नाथ’

गृह प्रवेश से पहले घर का शुद्धिकरण किया गया था। इसके लिए विशेष रूप से गोरखपुर स्थित गोरक्षनाथ पीठ के 7 पुरोहितों की एक टीम बुलाई गई थी, जिसने शुद्धिकरण की प्रक्रिया को पूरा किया।

Author लखनऊ। | Updated: March 28, 2017 5:49 PM
यूपी सीएम योगी आदित्य नाथ के ङर के बाहर लगी नेम प्लेट बदली। (Photo Source: Twitter)

उत्तर प्रदेश के नए सीएम योगी आदित्य नाथ को शपथ लिए 9 दिन बीते चुके हैं। लेकिन उनके नाम को लेकर अधिकारियों में अभी भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। जब योगी आदित्य नाथ ने सीएम पद की शपथ ली थी उनके सरकारी आवास 5 कालिदास मार्ग के बाहर जो नेम प्लेट लगी थी। उस पर ‘आदित्य नाथ योगी’ लिखा हुआ था। अब फिर से इस नेम प्लेट को बदला गया है। 9 दिन बाद फिर से योगी के घर बाहर लगे नए नेम प्लेट में उनका नाम ‘योगी आदित्यनाथ’ लिखा गया है।

दरअसल योगी आदित्य नाथ ने 19 मार्च को ‘आदित्य नाथ योगी’ के नाम से शपथ ली थी। जिसके आधार पर नेम प्लेट तैयार की गई थी। फिलहाल यूपी के नए सीएम अभी तक अपने अधिकारिक आवास में शिफ्ट नहीं हुए हैं। वह वीवीआईपी गेस्ट हाउस में रह रहे और पूरी सरकार भी वहीं से चला रहे हैं। फिलहाल उन्होंने वह नए घर में रहने नहीं गए हैं। योगी आदित्य नाथ नवरात्रि में अपने नए घर में गृह प्रवेश करेंगे।

गृह प्रवेश से पहले शुद्धिकरण
गृह प्रवेश से पहले घर का शुद्धिकरण किया गया था। इसके लिए विशेष रूप से गोरखपुर स्थित गोरक्षनाथ पीठ के 7 पुरोहितों की एक टीम बुलाई गई थी, जिसने शुद्धिकरण की प्रक्रिया को पूरा किया। पुरोहितों की टीम की अगुआई आचार्य रामानुज त्रिपाठी ने किया। पूरे विधि-विधान एवं सनातन पद्धति से पूजा-पाठ किया गया। सूत्रों के मुताबिक योगी के नए घर में हवन कुंड भी बनाया जा रहा है और साथ ही पूजा के लिए अलग कमरा भी तैयार किया जा रहा है।

विरोधियों ने शुद्धिकरण पर साधा निशाना
गौरतलब है कि योगी आदित्य नाथ द्वारा सीएम आवास का शुद्धिकरण प्रक्रिया कराए जाने के कारण वह विपक्षी नेताओं के निशाने पर भी आए। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि अगर 2022 में उनकी सरकार फिर से सत्ता में आई तो वह आवास को गंगाजल से धुलवाएंगे। वहीं, आरजेडी सुप्रीमो और बिहार के पूर्व सीएम लालू यादव ने कहा,”योगी ने सीएम आवास का शुद्धिकरण इसलिए कराया क्योंकि विगत एक दशक से ज्यादा वहां दलित/पिछड़ा एवं बहुजन वर्गों के मुख्यमंत्री रहते थे।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 चाइनीज कंपनी OPPO के नोएडा ऑफिस में तिरंगे का अपमान, अधिकारियों ने झंडा फाड़कर डस्टबिन में फेंका
2 बडगाम मुठभेड़ खत्‍म: सुरक्षा बलों ने उड़ा द‍िया वह घर, जिसमें छिपे थे आतंकी, एक को क‍िया ढेर
3 यूपी की जीत के लिए विदेश में भी हो रहे पीएम मोदी के चर्चे, अबतक दुनिया के 37 नेता दे चुके हैं बधाई