ताज़ा खबर
 

AAP से निकाले गए नेता ने ठुकराया ​कुमार विश्‍वास का ऑफर, कहा- हैरान हूं, मगर ऐसा नहीं होगा

कुमार विश्वास ने रविवार (3 दिंसबर) को दिल्ली स्थित पार्टी कार्यालय में संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया और पुराने साथियों को वापस संगठन से जोड़ने की बात कही थी।

कुमार विश्वास।

कुमार विश्वास ने रविवार को कहा कि आम आदमी पार्टी में उन सभी लोगों को वापस लाने की जरूरत है जो पिछले पांच सालों में अलग-अलग वजहों से पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। कुमार विश्वास के मुताबिक योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण जैसे वरिष्ठ सदस्यों को पार्टी में वापस लेने के लिए बातचीत चल रही है। कुमार विश्वास के इस बयान पर स्वराज अभियान के संस्थापक योगेंद्र यादव ने ट्वीट कर अपनी बात सामने रखी है। योगेंद्र यादव ने साफ किया है कि इस तरह की कोई बातचीत नहीं हो है। आप में वापस जाने को लेकर योगेंद्र यादव ने कहा कि इस तरह की संभावनाएं ना के बराबर हैं। आपको बता दें कि पार्टी आलाकमान से नाराज चल रहे कुमार विश्वास ने रविवार (3 दिंसबर) को दिल्ली स्थित पार्टी कार्यालय में संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया और पुराने साथियों को वापस संगठन से जोड़ने की बात कही थी।

कुमार विश्वास ने कहा था कि हमें परेशानी हो सकती है, मगर हमें पीछे नहीं हटना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें आम आदमी पार्टी का वर्जन-2 तैयार करना चाहिए, जहां पर उन सभी को वापस लाना चाहिए जो हमें छोड़कर चले गये हैं, इसके बाद हमें आम आदमी पार्टी के मूल सिद्धातों पर काम करना होगा जो पांच साल पहले तय किये गये थे।’ इससे पहले कुमार विश्वास ने ट्वीट कर कहा था कि आंदोलन वाले दिनों की राष्ट्रवादी भावना को जगाने के लिए दिल्ली स्थित पार्टी दफ्तर में संवाद होगा।

बता दें कि पार्टी से छोड़कर जा चुके वरिष्ठ नेताओं जैसे योगेन्द्र यादव, प्रशांत भूषण को वापस लाने की मांग पहले भी हो चुकी है। लेकिन सीएम अरविंद केजरीवाल और उनका खेमा इन मांगों की ओर ज्यादा तवज्जो नहीं दे रहा है। कुमार विश्वास ने कार्यकर्ताओं से कहा कि कुछ लोग उनके 26 नवंबर के भाषण के बाद फिर से सक्रिय हो गये हैं। ऐसे लोग उनकी छवि को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं, लेकिन वे सफल नहीं होंगे। बता दें कि पिछले कुछ महीनों से कुमार विश्वास और सीएम अरविंद केजरीवाल के बीच आम आदमी पार्टी में शीत युद्ध जैसा चल रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App