ताज़ा खबर
 

IAF Strike और Pulwama Attack के बीच बाबा रामदेव बोले, ‘जम्मू-कश्मीर से हटाओ आर्टिकल 370 और 35-A

बाबा ने कहा, 'आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35-ए को हटा देना चाहिए। देश में सभी के लिए एक ही कानून होना चाहिए।

Author Updated: February 27, 2019 8:49 AM
बाबा रामदेव (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस )

जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले के बाद मची हलचल के बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने एक बार फिर संविधान से आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35-ए को हटाने की वकालत की है। बता दें कि राज्य को इन्हीं दोनों आर्टिकल्स से विशेष राज्य का दर्जा दिया गया है। बाबा ने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा कि पूरे देश में सिर्फ एक ही कानून होना चाहिए।

रामदेव का बयानः नई दिल्ली में बाबा रामदेव ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष राज्य के दर्जे पर बयान देते हुए इसे हटाने की मांग की है। बाबा ने कहा, ‘आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35-ए को हटा देना चाहिए। देश में सभी के लिए एक ही कानून होना चाहिए। ऐसे में कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा क्यों?’ उन्होंने आगे सवाल उठाते हुए कहा कि देश में कश्मीरी कहीं से भी चुनाव लड़ सकते हैं, पर देश के लोग कश्मीर में जाकर चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। जब पूरा देश एक है तो कानून भी एक होना चाहिए।’ बता दें कि भारतीय संविधान में जम्मू-कश्मीर को आर्टिकल 370 के तहत विशेष स्वायत्तता दी गई है। वहीं आर्टिकल 35-ए के अंतर्गत भारतीय संविधान ने कश्मीरियों को विशेष राज्य का दर्जा दिया है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में आर्टिकल 35-ए के मुद्दे पर सुनवाई होनी है।

 

पुलवामा हमले पर क्या बोले रामदेवः पुलवामा हमले पर बयान देते हुए बाबा रामदेव ने पाकिस्तानी पीएम इमरान खान को कायर और अयोग्य कहा। इमरान के काम-काज पर सवाल उठाते हुए उन्हें पाकिस्तानी सेना की कठपुतली बताया। सीमा पार से आतंकवाद के कारण अब तक कई जवान शहीद हो चुके हैं। ऐसे में उन्होंने कश्मीर के मुद्दे को बैठकर सुलझाने की बात पर जोर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 IAF Strike: भारत की एयर स्ट्राइक के बाद क्या कर सकता है पाकिस्तान? ये हैं उसके पास विकल्प
2 बिहार के शेल्टर होम फिर सवालों के घेरे में, लड़कियां बोलीं- दम घोंटने वाला है माहौल, जेल जैसा लगता है
3 बिहार में छोटी-छोटी पार्टियों को क्‍यों जोड़ रही भाजपा? जानिए क्‍या है उसका फायदा