ताज़ा खबर
 

महिलाओं के हाथ में होगी एक्वा मेट्रो की कमान, 15 दिन में तय होगा किराया

एक्वा लाइन का संचालन नवंबर में प्रस्तावित है। महिलाओं को कार्य का प्रशिक्षण देने के लिए डीएमआरसी और एनएमआरसी, दोनों संयुक्त रूप से काम करेंगे। एक्वा लाइन की पहली ट्रेन का संचालन महिला चालक से कराने की भी योजना है।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच शुरू होने वाली एक्वा मेट्रो

नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच शुरू होने वाली एक्वा मेट्रो के संचालन में नारी सशक्तीकरण की झलक दिखाई देगी। नोएडा मेट्रो रेल निगम (एनएमआरसी) ने ट्रेन संचालन से लेकर राजस्व प्रबंधन तक की कमान महिलाओं को सौंपने की तैयारी कर रहा है। एक्वा लाइन का संचालन नवंबर में प्रस्तावित है। महिलाओं को कार्य का प्रशिक्षण देने के लिए डीएमआरसी और एनएमआरसी, दोनों संयुक्त रूप से काम करेंगे। एक्वा लाइन की पहली ट्रेन का संचालन महिला चालक से कराने की भी योजना है। मेट्रो संचालन के अलावा टोकन बूथ व हेल्पलाइन डेस्क पर भी महिलाएं बैठी नजर आएंगी।

करीब 5500 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हो रही एक्वा लाइन का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। 15 नवंबर से पहले रेलवे सुरक्षा अधिकारी इस लाइन का निरीक्षण कर मेट्रो संचालन की मंजूरी दे सकते हैं, जिसके बाद नोएडा से ग्रेटर नोएडा के बीच मेट्रो दौड़ने लगेगी। एक्वा लाइन का संचालन 154 चालक करेंगे, जिनमें करीब 54 महिलाएं होंगी। स्टेशन नियंत्रण, डिपो कंट्रोल, भीड़ नियंत्रण और राजस्व प्रबंधन के कार्य में भी महिलाओं की भागीदारी ज्यादा होगी। इन कार्यों के लिए चयनित होने वाली महिलाओं को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा, जोकि जल्द ही शुरू होने वाला है।

कुल 29.7 किलोमीटर लंबी एक्वा लाइन पर 21 स्टेशन हैं, जहां महिलाओं को पाली (शिफ्ट) के आधार पर तैनात किया जाएगा। एक्वा लाइन पर चलने वाली मेट्रो चार कोच की होगी। हर फेरे में करीब 700 मुसाफिर मेट्रो में सफर कर सकेंगे। हालांकि सुबह और शाम के व्यस्त समय के दौरान मुसाफिरों की संख्या बढ़ सकती है। दोनों वक्त मेट्रो की कमान महिला चालकों के हाथ रहेगी। बताया गया है कि लखनऊ मेट्रो का संचालन भी महिला चालक ही कर रही हैं। एनएमआरसी अधिकारियों के मुताबिक, महिला चालक व गार्डों के वर्ग को अलग तरह का प्रशिक्षण दिया जाएगा। वहीं, टोकन काउंटर, हेल्प डेस्क व स्टेशन नियंत्रण आदि की जिम्मेदारी के लिए चयनित महिला कर्मियों को अलग तरह का प्रशिक्षण मिलेगा। एनएमआरसी के सहायक निदेशक पीडी उपाध्याय ने बताया कि नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाने वाली मेट्रो का एनसीआर में दूसरा सबसे लंबा ट्रैक है, जिसका संचालन महिलाओं के हाथ में होगा।

15 दिन में तय होगा किराया
एक्वा मेट्रो का किराया दिल्ली-एनसीआर के मौजूदा किराए से कम रखा जाएगा। किराया कितना रखा जाए, यह अगले दो हफ्ते के भीतर तय कर लिया जाएगा। भले ही अभी किराया तय नहीं है, लेकिन एनएमआरसी ने अपनी सेवाओं के लिए दिल्ली मेट्रो के मुकाबले किराया कम रखने का फैसला किया है। एक साल तक एक्वा लाइन का संचालन डीएमआरसी करेगा। उसके बाद यह जिम्मेदारी एनएमआरसी खुद उठाएगा। शुरुआत में किराया कम रखने के बाद मुसाफिरों की संख्या के आधार पर इसका पुनर्निधारण किया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App