ताज़ा खबर
 

बिहार: आठ दिन तक पति की सड़ती लाश के साथ बैठी रही, पुलिस को नहीं आया तरस

पति की मौत के बाद लोगों ने रजिया से घर का पता पूछा, लेकिन बेजुबान होने के कारण रजिया किसी को भी अपना पता नहीं बता सकी। इसके बाद अस्पताल के कर्मचारियों ने जोकन भगन की लाश को पोस्टमार्टम हाउस के बाहर रख दिया।

बिहार के मुजफ्फरपुर की घटना। (image Source: Thinkstock)

बिहार के मुजफ्फपुर में संवेदनहीनता का झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। दरअसल यहां एक व्यक्ति की लाश 8 दिनों तक यूं ही पड़ी रही और उसकी बेजुबान पत्नी लाश के पास बैठी रोती रही, लेकिन किसी को महिला के आंसुओं पर रहम नहीं आया। पुलिस ने भी इस मामले में पीड़िता की कोई मदद नहीं की। इसी बीच एक परिचित महिला उसे मिली और उसके बाद महिला और उसके पति की लाश को घर पहुंचाया जा सका। पीड़ित महिला रजिया मुजफ्फरपुर के कोठिया गांव की रहने वाली है। हिंदुस्तान की एक खबर के अनुसार, रक्षाबंधन के बाद रजिया अपने पति जोकन भगन के साथ अपने मायके अहियापुर से अपने ससुराल कोठिया गांव लौट रही थी।

बताया जा रहा है कि रास्ते में ही किसी ने महिला के पति को कुछ नशीला पदार्थ खिला दिया। किसी तरह दोनों पति-पत्नी मुजफ्फरपुर जंक्शन पहुंच गए। जंक्शन पर मौजूद जीआरपी ने जोकन भगन को सदर अस्पताल में भर्ती करा दिया। बाद में हालत और बिगड़ने पर जोकन भगन को मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया। जहां इलाज के दौरान जोकन की मौत हो गई। पति की मौत के बाद लोगों ने रजिया से घर का पता पूछा, लेकिन बेजुबान होने के कारण रजिया किसी को भी अपना पता नहीं बता सकी। इसके बाद अस्पताल के कर्मचारियों ने जोकन भगन की लाश को पोस्टमार्टम हाउस के बाहर रख दिया।

रजिया 8 दिनों तक अपने पति की लाश के साथ ही रही। कुछ लोग ने महिला को पागल समझकर उसे खाना खिला दिया। मगर किसी ने भी महिला को उसके घर पहुंचाने की कोशिश नहीं की। इस दौरान रजिया के पति की लाश से दुर्गंध आने लगी। गुरुवार को भी रजिया पोस्टमार्टम हाउस के बाहर अपने पति की लाश के बगल में बैठी थी। तभी उसके गांव की एक परिचित महिला अस्पताल आयी, जहां रजिया और उसकी परिचित महिला मिली। इसके बाद रजिया अपने पति की लाश के साथ अपने ससुराल पहुंच सकी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App