ताज़ा खबर
 

बेंगलुरु में 4 पैर और दो पुरुष लिंग के साथ जन्मा बच्चा, मां ने बताया भगवान का तोहफा

वीआईएमएस में सर्जनों की एक टीम बच्चे की स्थिति पर नजर रख रही है। उन्हें उम्मीद है कि बच्चा पहले जैसा हो जाएगा।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

बेंगलुरु में शनिवार को रायचूर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में एक अनोखा बच्चा पैदा हुआ है। इस बच्चे के चार पैर हैं और दो पुरुष लिंग हैं। पुलादिन्नी गांव की रहने वाली 23 साल की ललितम्मा और 26 साल के चेन्नाबस्वा के घर पैदा हुए इस बच्चे को शनिवार शाम बल्लारी के विजयनगर इंस्टिट्यूट अॉफ मेडिकल साइंसेज (वीआईएमएस) में लाया गया था। यहां उसे शिशु केंद्र में रखा गया था।

डॉ.वीरूपक्षा टी ने कहा कि शनिवार सुबह 4:23 मिनट पर बच्चे का जन्म हुआ था। उन्होंने कहा कि बच्चे के जन्म के वक्त उनकी ही ड्यूटी थी, इसलिए उन्होंने ही सारे इंतजाम किए थे। उन्होंने कहा कि यह एक नॉर्मल डिलीवरी थी। इससे पहले ललितम्मा बच्चे को वीआईएमएस लाना नहीं चाहती थी। उसने डॉक्टरों को बताया कि यह उनके लिए भगवान का तोहफा है। बाद में जब उसके परिवारीजनों और डॉक्टरों ने उसे समझाया तो वह बच्चे को बल्लारी लाने के लिए मान गई। डॉ.वीरूपक्षा ने कहा, मैंने परिवार को वीआईएमएस रेफर कर दिया और रविवार को वहां के सर्जनों के बात की और उन्होंने कहा कि वह बच्चे को अपनी देखरेख में रखेंगे। उन्होंने कहा कि बच्चा बाकी बच्चों की तरह हो जाएगा।

टाइम्स अॉफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक वीआईएमएस में बच्चे का केस देख रहे डॉ. दिवाकर गड्डी ने कहा कि सर्जनों की एक टीम बच्चे की स्थिति को देख रही है। यह हमारे लिए एक बहुत चुनौतीभरा मामला है। उन्होंने कहा, ललितम्मा अपने बच्चे को एेसे ही बड़ा करना चाहती है। उसका पहला बच्चा तीन साल का है। उसने कहा कि वे लोग गरीब हैं और इतना महंगा खर्चा नहीं उठा सकते। ललितम्मा ने टीओआई को बताया कि डॉक्टरों और मेरे परिवारीजनों ने मुझे वीआईएमएस में आने की सलाह दी, ताकि उसका इलाज किया जा सके। अब मुझे उम्मीद है कि वह आम बच्चों जैसा हो जाए।

बता दें कि इससे पहले मुजफ्फरपुर में दो बच्चे पैदा हुए थे, जिनका शरीर एक दूसरे से जुड़ा हुआ था। डॉक्टरों ने इसे रेयर केस बताया था। डॉक्टरों का कहना था कि ऐसे बच्चों के ज्यादा देर तक जिंदा रहने की संभावना कम होती है। उनके मुताबिक लाखों में से किसी एक बच्चे का जन्म इस तरह से होता है। इसका कारण गर्भाशय में अंडे के संचेतन अवस्था के दौरान फूट जाना होता है।

Next Stories
1 एलपीजी सिलेंडर की ऑनलाइन बुकिंग पड़ रही महंगी
2 टिकट बंटवारे में कांग्रेस चली भाजपा की राह पर
3 राजस्थान के भाजपा व कांग्रेस नेताओं को मिली जिम्मेदारी
ये पढ़ा क्या?
X