ताज़ा खबर
 

ग्रेटर नोएडा में मां-बेटी की बल्ले से पीट-पीट कर हत्या

ग्रेटर नोएडा में गौड़ सिटी-2 के एक फ्लैट में मां-बेटी की बल्ले से पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। दोनों की लाश रजाई में लिपटी मिली।
प्रतीकात्मक तस्वीर

ग्रेटर नोएडा में गौड़ सिटी-2 के एक फ्लैट में मां-बेटी की बल्ले से पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। दोनों की लाश रजाई में लिपटी मिली। पास ही बल्ला और धारदार हथियार भी बरामद हुआ। जिन पर खून के निशान हैं। फ्लैट से 15 साल का बेटा गायब है। बेटा नोएडा के मयूर पब्लिक स्कूल में दसवीं कक्षा में पढ़ता है। पुलिस के अनुसार घर के लॉकर में जेवरात तो रखे मिले हैं लेकिन करीब डेढ़ लाख रुपए गायब हैं। पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा है। डॉग स्क्वायड और फॉरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल की जांच की। बताया गया है कि लगातार फोन नहीं उठने पर पति ने सोसायटी में रहने वाले परिचित को देखने को कहा था। दरवाजा नहीं खुलने पर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस को दरवाजे का ताला तोड़ कर अंदर घुसना पड़ा।

गौड़ सिटी के 11 एवेन्यू फ्लैट नंबर 1446 फ्लैट में बुधवार सुबह अंजलि अग्रवाल (42) और बेटी मणिकर्णिका (12) की लाश कमरे में बिस्तर पर रजाई से ढकी मिली हैं। पहली नजर में मामला हत्या का लग रहा है।सीसीटीवी की फुटेज में 4 दिसंबर की शाम 7.15 बजे मां-बेटी को बाहर जाते दिखाई देखा गया। 8 बजे दोनों लौट आए थे। उसके बाद बुधवार सुबह तक किसी ने उन्हें नहीं देखा। पति और रिश्तेदार लगातार फोन मिला रहे थे। लेकिन फोन नहीं उठने पर पास रहने वाले परिचितों से संपर्क किए जाने पर पुलिस को दी गई। शवों की स्थिति और सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर पुलिस वारदात को चार दिसंबर के रात 10 से 11 बजे के बीच की मान रही है।

जांच में पता चला है कि आरोपी ने पूरी बेफिक्री से वारदात को अंजाम दिया है। हत्या के बाद आरोपी ने बाथरूम में जाकर स्नान किया और फिर कपड़े बदले। बेटी के सिर पर बल्ले के साथ कैंची के भी घाव के निशान हैं। फ्लैट में रहने वाली अंजलि के सास-ससुर 3 दिसंबर की सुबह देहरादून गए थे। जबकि पति सौम्य अग्रवाल 4 दिसंबर बाकी पेज 8 पर को कारोबार के लिए गुजरात गए थे। लॉकर से करीब 1.50 लाख रुपए गायब मिले हैं। सीसीटीवी फुटेज में 4 दिसंबर की रात करीब 11.15 बजे बेटे को सोसायटी से बाहर निकलते देखा है। हालांकि परिजन उसका बचाव कर रहे हैं। उनके मुताबिक प्रखर शर्मीले स्वभाव का है। वह इस हत्याकांड को अंजाम नहीं दे सकता है। इस साजिश के पीछे कोई और है। एसएसपी लव कुमार ने बताया कि पहली नजर में मामला रंजिश का लग रहा है। अलबत्ता लूट समेत कई पहलुओं से मामले की जांच की जा रही है।

मयूर स्कूल में पढ़ने वाला प्रखर दो दिन से स्कूल नहीं गया था। वह स्कूल की बस से ही आता-जाता था। उसके साथ पढ़ने वालों ने बताया कि वह हंसमुख स्वभाव है लेकिन स्कूल नहीं आने से पहले वह काफी परेशान था। उसने बात करनी कम कर दी थी। दूसरी तरफ यदि प्रखर ही हत्यारा निकलता है, मनोचिकित्सकों ने उसे साइको पैथिक माना है। मनोचिकित्सक डॉ.अजय डोगरा के मुताबिक ऐसी स्थिति में वह नशे या ऐसी मनो स्थिति से गुजरता है, जहां उसे अपनत्व से लगाव खत्म हो जाता है। हालांकि इसे ब्लू व्हेल खेल से जोड़ना गलत बताया है। इस खेल में दिए गए टास्क को खिलाड़ी अपने ऊपर निर्भर होने वाले लोगों को खत्म करता है। हालांकि अभी तक प्रखर को ही संभावित हत्यारा माना जा रहा है। प्रखर को पकड़ने के लिए एक दल स्कूल में मौजूद रहा। जहां बच्चों से लेकर अध्यापकों तक से पूछताछ की लेकिन कोई अहम सुराग हाथ नहीं लगा है। दोहरे हत्याकांड में किसी बड़ी साजिश की भी आशंका जताई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.