अगले साल होने वाले चुनावों से पहले गुजरात में बड़ा उलटफेर, नए CM की रेस में ये पांच नाम, मनसुख मंडाविया सबसे आगे

वर्तमान उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को भी प्रमोशन देकर मुख्यमंत्री बनाए जाने की चर्चा जोरों पर है। नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्रित्व काल में भी उनके कैबिनेट में शामिल रहे नितिन पटेल की नाराजगी की खबरें पिछले विधानसभा चुनाव के बाद सामने आई थी। अमित शाह से बातचीत के बाद ही उन्होंने उपमुख्यमंत्री का पद संभाला था।

मुख्यमंत्री पद की रेस में केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया, लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, डिप्टी सीएम नितिन पटेल और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल का नाम शामिल है। (फोटो – एएनआई/ सोशल मीडिया)

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले ही गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। शनिवार को उन्होंने गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत को अपना इस्तीफा सौंप दिया। विजय रूपाणी के इस्तीफा देने के बाद से ही राज्य में नए मुख्यमंत्री को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं। इनमें केंद्रीय मंत्री सहित गुजरात भाजपा के कई बड़े नेताओं का नाम शामिल है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अब तक करीब पांच नाम मुख्यमंत्री पद के लिए सामने आए हैं। इनमें केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया, लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, डिप्टी सीएम नितिन पटेल और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल का नाम शामिल है। हालांकि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया का नाम मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे चल रहा है।

मनसुख मांडविया को प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का सबसे करीबी माना जाता है। साथ ही भाजपा आगामी विधानसभा चुनाव में पाटीदार वोट को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए भी इसी समाज से आने वाले केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया को राज्य की कमान सौंप सकती है। दरअसल पिछले चुनाव में पाटीदार समुदाय का आक्रोश झेल चुकी भाजपा इस बार कोई भी जोखिम नहीं उठाना चाहती है और वह युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के प्रभाव को कम करने के लिए मनसुख मंडाविया को सीएम पद का दायित्व सौंप सकती हैं।

मनसुख मंडाविया के बाद इस लिस्ट में शामिल लक्षद्वीप के मौजूदा प्रशासक प्रफुल्ल पटेल को भी भाजपा राज्य का कमान देने पर विचार कर सकती है। दरअसल मुस्लिम बहुल लक्षद्वीप में बीफ बैन और पंचायत चुनाव में दो बच्चों से ज्यादा वाले उम्मीदवारों को अयोग्य ठहराने जैसे विवादित मसौदे को तैयार करने वाले प्रफुल्ल पटेल का कार्यकाल थोड़े समय में पूरा होने ही वाला है। इसलिए भाजपा प्रफुल्ल पटेल को भी बड़ी जिम्मेदारी देने के लिहाज से मुख्यमंत्री पद सौंप सकती है।

वहीं वर्तमान उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को भी प्रमोशन देकर मुख्यमंत्री बनाए जाने की चर्चा जोरों पर है। नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्रित्व काल में भी उनके कैबिनेट में शामिल रहे नितिन पटेल की नाराजगी की खबरें पिछले विधानसभा चुनाव के बाद सामने आई थी। अमित शाह से बातचीत के बाद ही उन्होंने उपमुख्यमंत्री का पद संभाला था। इसलिए माना जा रहा है कि इसबार मुख्यमंत्री पद देकर भाजपा नितिन पटेल की नाराजगी दूर कर सकती है।

इसके अलावा केंद्रीय मंत्री पुरुषोतम रुपाला और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल के भी मुख्यमंत्री बनाए जाने की चर्चा जोरों है। संगठन पर मजबूत पकड़ होने का फायदा सीआर पाटिल को मिल सकता है। वहीं भाजपा प्रभावशाली कड़वा पाटीदार या पटेल समुदाय से आने वाले भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता पुरुषोत्तम रुपाला के नाम पर भी विचार कर सकती है।  

शनिवार को इस्तीफा देने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए विजय रुपाणी ने कहा कि मुझे गुजरात के लिए जो कुछ करने का अवसर मिला उसके लिए मैं माननीय प्रधानमंत्री जी का आभारी हूं। अब नए नेतृत्व में यह यात्रा आगे बढ़नी चाहिए। यह ध्यान में रखकर मैंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया है। भाजपा की परंपरा रही है कि समय के साथ कार्यकर्ताओं के दायित्व बदलते रहते हैं। माना जा रहा है कि भाजपा जल्दी ही गुजरात के नए मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर सकती है। इसके लिए भाजपा के सभी विधायकों को शाम तक गांधीनगर पहुंचने के लिए कहा गया है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट