ताज़ा खबर
 

मंदिर में जब लालू यादव ने बचाई थी महिला की जान, साड़ी में लगी आग को बुझवाया था; जानें- पूरा किस्सा

एक बार जब लालू प्रसाद यादव मंदिर गए थे, तभी एक महिला की साड़ी में आग लग गई। लालू यादव की नजर उसपर पड़ गई और लोगों से कहकर तुरंत आग बुझवा दी।

lalu yadavतस्वीर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की है। क्रेडिट- एक्सप्रे, प्रेमनाथ पांडेय

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव अपनी बेबाकी और मजेदार अंदाज के लिए जाने जाते हैं। छात्र आंदोलन से निकले राजनेता लालू यादव के जीवन में कई ऐसे किस्से हैं जब उन्होंने लोगों की मदद की। एक बार जब लालू प्रसाद यादव हनुमान मंदिर गए थे तो एक महिला की जान बचा ली। वहां एक महिला की साड़ी में आग लग गई। लालू प्रसाद यादव की तुरंत नजर पड़ गई और लोगों से बोले, आग बुझाओ। यह कहानी उन्होंने खुद बताई थी।

लालू यादव ने रिपोर्टर से कहा, ‘अभी मंदिर में एक महिला को आग लग गई और मैंने जान बचा ली। दीया से उसको आग लग गई। हमने लोगों को भेजकर जल्दी से आग बुझाई।’ दरअसल उस वक्त लालू प्रसाद यादव खुद फल खरीदने दुकान पर पहुंचे थे। तभी रिपोर्टर उनसे फल के बारे में सवाल पूछने लगे। इसपर लालू यादव ने कहा, ये सब फालतू की बात है। अभी एक महिला की जान बचा ली वह दिखाओ। उन्होंने मंदिर की पूरी कहानी बयां कर दी।

बता दें कि लालू प्रसाद यादव को ‘गरीबों का मसीहा’ भी कहा जाता रहा है। वह गोपालगंज के फुलवरिया गांव में जन्मे थे। उनके दो बेटे और सात बेटियां हैं। जेपी आंदोलन के समय वह नेता के रूप में सामने आए और 1990 में जनता दल से अलग होकर अपनी पार्टी बना ली। इसी का नाम राष्ट्रीय जनता दल है।

पशुपालन विभाग में घोटाले के दोषी लालू यादव इस समय जेल में हैं। लालू प्रसाद यादव के पीछे गरीबों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों का हुजूम दिखाई देता था। लेकिन फिर उनकी कहानी भ्रष्टाचार के गर्त की तरफ मुड़ गई। बेनामी संपत्ति के कई पुलिंदे जब्त किए गए। दस्तावेजों से पता चलता है कि लालू प्रसाद यादव ने अपने अधिकारों और जनसमर्थन का उपयोग करते हुए बहुत लोगों को फयदा पहुंचाया और इसके बदले में जमीन और संपत्ति ले ली। उनके बेटे तेजस्वी यादव इन दिनों राजनीति में  सक्रिय हैं तो लालू प्रसाद यादव जेल की सलाखों के पीछे से फिर से सत्ता के गलियारों में अपने परिवार को देखने का इंतजार कर रहे हैं।

Next Stories
1 कोरोना काल में सूरत-ए-हालः वेंटिलेटर्स लाने को निगम ने भेजा कचरा वाहन, कांग्रेसी नेता बोले- यह गुजरात मॉडल है
2 असम विधानसभा चुनाव 2021: पोलिंग बूथ में रजिस्टर थे 90 मतदाता, 171 वोट पड़े, पांच चुनाव अधिकारी सस्पेंड
3 ऐंकर ने ममता के बनारस जाने पर उठाया सवाल तो बोले मनोजीत- मोदी झूठ बोलकर लोगों को भड़काने में माहिर
ये पढ़ा क्या?
X