ताज़ा खबर
 

दिल्ली में अब घर बैठे बनेंगे ड्राइविंग लाइसेंस, 40 सरकारी सेवाओं की होम डिलावरी शुरू

दिल्लीवासियों को ड्राइविंग लाइसेंस और विवाह पंजीकरण प्रमाण सहित 40 सरकारी सेवाओं की आपूर्ति उनके घरों तक की जाएगी।

Author September 10, 2018 7:36 PM
दिल्लीवासियों को ड्राइविंग लाइसेंस और विवाह पंजीकरण प्रमाण सहित 40 सरकारी सेवाओं की आपूर्ति उनके घरों तक की जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घर तक सार्वजनिक सेवाओं की आपूर्ति के लिए सोमवार को कार्यक्रम की शुरूआत की और इसे ‘‘शासन में क्रांतिकारी बदलाव’’ बताया।

दिल्लीवासियों को ड्राइविंग लाइसेंस और विवाह पंजीकरण प्रमाण सहित 40 सरकारी सेवाओं की आपूर्ति उनके घरों तक की जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने घर तक सार्वजनिक सेवाओं की आपूर्ति के लिए सोमवार को कार्यक्रम की शुरूआत की और इसे ‘‘शासन में क्रांतिकारी बदलाव’’ बताया।  केजरीवाल ने कहा कि अगले एक महीने में परियोजना में 30 और सेवाओं को शामिल किया जाएगा और दो-तीन महीने में इसकी संख्या 100 तक हो जाएगी। दिल्लीवासी फोन नंबर 1076 पर कॉल कर घर तक सेवा की आपूर्ति के लिए अनुरोध कर सकते हैं। इसकी आपूर्ति सुबह आठ बजे से रात के 10 बजे तक होगी।

हालांकि, सेवाओं की आपूर्ति के लिए बनाया गया कॉल सेंटर चौबीसों घंटे काम करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि समूचे देश और दुनिया के लिए आप सरकार घर तक सेवाओं की आपूर्ति के जरिए एक मॉडल की स्थापना करना चाहती है। पहले चरण में आप सरकार जाति प्रमाणपत्र, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड, जन्म प्रमाणपत्र, विवाह प्रमाणपत्र, पानी के कनेक्शन जैसी 40 सेवाएं दिल्ली के बाशिंदों को उनके घरों तक पहुंचाएगी।

इनकी होगी डिलेवरी

पचास रूपये के अतिरिक्त शुल्क के साथ सेवाएं मुहैया करायी जाएंगी ।  केजरीवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘इससे लोगों का समय बचेगा। नागरिकों को भी अपना काम कराने के लिए बिचौलिए को पैसा नहीं देना पड़ेगा।’’ उन्होंने मीडिया से कार्यक्रम के क्रियान्वयन में विसंगतियों का उल्लेख करने की अपील की ताकि सरकार अगले 10-15 दिनों में इसमें सुधार कर सके। कार्यक्रम में कैबिनेट के सभी मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया। केजरीवाल ने कहा कि सरकार दरवाजे तक सेवाओं की आपूर्ति के क्रियान्वयन के लिए 12 करोड़ रूपये खर्च कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App