ताज़ा खबर
 

सुरक्षा घेरा तोड़ पीएम नरेंद्र मोदी तक पहुंच गया शख्स, दौड़ पड़ा SPG कमांडो, जानें फिर क्या हुआ

पलक झपकते ही एसपीजी कर्मियों ने उस व्यक्ति को दबोच लिया। घटना तब हुई जब बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तब तक मंच से जा चुकी थीं। विशिष्ट अतिथियों के आगमन के मद्देनजर शांति निकेतन में बहुस्तरीय सुरक्षा की व्यवस्था की गई थी।

Author Updated: May 26, 2018 8:23 PM
बीरभूम में 25 मई को विश्व-भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लेने जाते पीएम मोदी (PTI Photo)

विश्व भारती के दीक्षांत समारोह के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रवींद्रनाथ टैगोर की तस्वीर भेंट करने के लिये एक व्यक्ति ने आश्चर्यजनक तरीके से उनके सुरक्षा घेरे को तोड़ दिया। दीक्षांत समारोह के समापन की घोषणा किये जाने के बाद जब मोदी मंच से जा रहे थे तो स्वपन मारित नाम का शख्स उन्हें तस्वीर भेंट करने के लिये अचानक वहां पहुंच गया। इस शख्स ने पहले पीएम के पैर छुए और उन्हें रवीन्द्रनाथ टैगोर की एक तस्वीर दी। प्रधानमंत्री ने तस्वीर ले ली और इसे अपने सुरक्षाकर्मी को सौंप दिया। हालांकि इस शख्स को अचानक देख पीएम भी चौक गये थे। पीएम के सामने अचानक से एक शख्स को देखने के बाद सुरक्षाकर्मियों के होश उड़ गये।

पलक झपकते ही एसपीजी कर्मियों ने उस व्यक्ति को दबोच लिया। घटना तब हुई जब बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तब तक मंच से जा चुकी थीं। विशिष्ट अतिथियों के आगमन के मद्देनजर शांति निकेतन में बहुस्तरीय सुरक्षा की व्यवस्था की गई थी। संपर्क किये जाने पर विश्व भारती के कार्यवाहक कुलपति सबुजकाली सेन ने को बताया, ‘‘मैंने घटना को देखा। तब मैं मंच पर मौजूद था। मैं उस व्यक्ति को नहीं जानता। ’’ पुलिस ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक स्वपन मारित नाम का ये व्यक्ति विश्व भारती कैंपस कृष्णानगर से आया था। कृष्णानगर शांतिनिकेतन से 120 किलोमीटर दूर है। रिपोर्ट के मुताबिक ये घटना इतनी जल्दबाजी में हुई कि मंच पर मौजूद कई लोगों को भी कुछ समझ में नहीं आया। बाद में बोलपुर पुलिस स्टेशन में इस शख्स से देर रात तक पूछताछ की। पूछताछ में सामने आया है कि ये शख्स किसी तरह से पीएम के करीब आना चाहता था। बता दें कि इस घटना के दौरान पीएम मोदी की पुरी सुरक्षा एसपीजी के स्टाफ संभाल रहे थे। जबकि स्टेट पुलिस के पास कार्यक्रम स्थल के बाहरी इलाके की सुरक्षा का जिम्मा था। शांतिनिकेतन के आम्र  कुंज में जिस जगह पर कार्यक्रम हो रहा था, वहां पर पहुंचने के लिए पुलिस ने कई बैरिकेड लगा रखे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बंगालः पड़ोसी सूबों के मरीजों को मुफ्त इलाज की सुविधा बंद
2 पश्चिम बंगाल चुनाव: पुलिसवालों, चुनाव अधिकारियों के सामने ही लग रहे थे वोट के ठप्पे, वायरल हुआ वीडियो
3 West bengal panchayat election 2018: हिंसा में 20 घायल, घर में पत्नी समेत जिंदा जलाया गया CPM कार्यकर्ता
ये पढ़ा क्या?
X