ताज़ा खबर
 

सरस्वती पूजा में तेज संगीत बजाने का किया विरोध, बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या

तेज संगीत का विरोध करने के लिए हरधन के पड़ोसी तरुण मल और राजकुमार मल की भी पिटाई की गई। दोनों ने हरधन का समर्थन करते हुए तेज म्यूजिक बजाने का विरोध किया था।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

पश्चिम बंगाल में परीक्षा की तैयारी कर रहे एक स्टूडेंट के 66 साल के चाचा की रॉड और क्रिकेट स्टंप्स से पीटकर हत्या कर दी गई। घटना मुर्शिदाबाद के खरग्राम की है। इस शख्स ने सरस्वती पूजा के कार्यक्रम में तेज संगीत बजाने को लेकर पड़ोसियों का विरोध किया था। हरधन मल नाम के इस शख्स की कांदी के अस्पताल में मौत हो गई। एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक, घटना गन्फुल गांव की है। सरस्वती पूजा का आयोजन एक पूर्व सैनिक की ओर से किया गया था। डॉक्टरों के मुताबिक, हरधन को सिर में गंभीर चोटें लगी थीं। उसकी पसलियां भी टूटी हुई पाई गईं।

तेज संगीत का विरोध करने के लिए हरधन के पड़ोसी तरुण मल और राजकुमार मल की भी पिटाई की गई। दोनों ने हरधन का समर्थन करते हुए तेज म्यूजिक बजाने का विरोध किया था। उधर, परिवार में मौत के बावजूद 16 साल के रंजीत मल मंगलवार को परीक्षा में शामिल हुए। उनके पिता कलकक्ता में सिक्योरिटी गार्ड का काम करते हैं। हत्या का यह मामला ऐसे वक्त में सामने आया है, जब सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में बीजेपी की उस याचिका को खारिज कर दी थी, जिसमें लाउडस्पीकरों पर बैन में छूट देने की मांग की गई थी। कोर्ट ने कहा था कि बच्चों की परीक्षाएं ज्यादा अहम हैं। बता दें कि बोर्ड एग्जाम से 72 घंटे पहले से लाउडस्पीकर और माइक्रोफोन के इस्तेमाल पर प्रतिबंध है।

हत्या के इस मामले में अभी तक 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें फरार चल रहे पूर्व सैनिक अादित्य मलिक की पत्नी रुना मलिक भी शामिल हैं। किसानी करने वाले तरुण ने बताया कि रंजीत और उनकी मां अनीता ने मलिक और उसके दोस्तों से रविवार को दरख्वास्त की कि वे लाउडस्पीकर की आवाज कम कर दें क्योंकि परीक्षाएं नजदीक थीं। तरुण के मुताबिक, उन लोगों के घर कार्यक्रम पंडाल के नजदीक ही हैं। दरख्वास्त के बावजूद तेज संगीत बजाया जाना जारी रहा। इसके बाद हरधन और कुछ अन्य लोग पंडाल में गए। इसके बावजूद संगीत धीमा नहीं  किया, जिसके बाद टकराव हुआ। तरुण ने आदित्य मलिक और उसकी पत्नी समेत 10 के खिलाफ मुकदमा लिखवाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App