ताज़ा खबर
 

विचारधारा पर पूछा सवाल तो भड़क गईं ममता बनर्जी, बोलीं- नारदा स्कैम के लिए भी भाजपा जिम्मेदार

ममता बनर्जी से पत्रकार ने ऐसा सवाल पूछ लिया कि वह भड़क गईं। उन्होंने पत्रकारों को भी बुरा भला कहा। विचारधारा के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह किसी का व्यक्तिगत सवाल है।

मुकुल रॉय को टीएमसी जॉइन कराने के समय ममता बनर्जी। फोटो- पीटीआई

टीएमसी छोड़ भाजपा में गए मुकुल रॉय की आज ”घर वापसी” हो गई। इस मौके पर सीएम ममता बनर्जी जब पत्रकारों के सवाल का जवाब दे रही थीं तभी एक ऐसा सवाल किया गया कि वह भड़क गईं। इसके बाद मीडिया को भी बुरा-भला कहने लगीं। दरअसल मुकुल रॉय से किसी ने विचारधारा पर सवाल पूछ लिया था। मुकुल रॉय ने तो साधारण जवाब दे दिया लेकिन ममता बनर्जी ने कहा कि इस तरह का सवाल करना ठीक नहीं है। यहां कोई अपना व्यक्तिगत विचार या सवाल लेकर न पूछे।

ममता बनर्जी ने कहा, ‘हमरी पार्टी शक्तिशाली है। जिन लोगों ने हमारी पार्टी के साथ गद्दारी की उन्हें हम स्वीकार नहीं करेंगे। मुकुल ने कोई भी दलविरोधी बात नहीं की।’ पत्रकार ने फिर सवाल करने की कोशिश की तो दीदी और भड़क गईं। उन्होंने कहा, वैक्सिनेशन का 35 हजार करोड़ कहां है, पीएम केयर फंड कहां है। आप ये सवाल भाजपा से करिए।

पत्रकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संबंधित सवाल कर लिया तो सीएम ने कहा, मैं पहले फैसले को पढ़ूंगी तभी कुछ कह पाऊंगी। दूसरे पत्रकार के सवाल पर ममता बनर्जी सीधा कहने लगीं कि भाजपा ने आपको खिलाया है। मैं आपको संतुष्ट नहीं करने आई हूं। आप भाजपा मीडिया हो। भाजपा तोड़ने का काम करती है और मैं वह नहीं करती। यहां सारी पारदर्शी नीतियां हैं।

उन्होंने कहा, भाजपा आम लोगों की पार्टी नहीं है। यह गवर्नर, पूंजीपतियों और एजेंसियों की पार्टी है। एजेंसियां भाजपा की मुखौटा बनकर रह गई हैं इसके बावजूद आप लोग इस तरह का सवाल पूछते हैं। ममता ने यह भी कहा कि नारदा स्कैम के लिए टीएमसी नहीं भाजपा उत्तरदायी है।

इसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब एक पत्रकार ने सुवेंदु अधिकारी को लेकर सवाल पूछ लिया तो ममता बनर्जी ने कहा, चलो चलो, प्रेस कॉन्फ्रेंस ख़त्म हो गई। दरअसल सवाल मुकुल रॉय से पूछा गया था लेकिन बीच में ममता बनर्जी बोल पड़ीं।

बता दें कि मुकुल रॉय चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे और उन्हें बंगाल में बड़ी ज़िम्मेदारी भी दी गई थी। हालांकि उन्होंने सुवेंदु अधिकारी की तरह कभी ममत के ख़िलाफ़ खुलकर मोर्चा नहीं खोला। चुनाव में टीएमसी की जीत के बाद उन्होंने घर वापसी का फैसला कर लिया।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X