ताज़ा खबर
 

बीजेपी कार्यकर्ता गिरफ्तार, ममता बनर्जी की भद्दी और फर्जी तस्‍वीरें शेयर की थी

बबुआ घोष ने इस पोस्ट के साथ सीएम ममता बनर्जी का एक फर्जी तस्वीर भी साझा किया है। तस्वीर में ममता बनर्जी के साथ ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक को आपत्तिजनक अवस्था में दिखाया गया है।

बबुआ वेस्ट मिदनापुर जिले के शौला गांव का रहने वाला है। वह जिला स्तर का कार्यकर्ता है और कई मौकों पर राज्य बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष के साथ भी दिख चुका है।

पश्चिम बंगाल पुलिस ने वेस्ट मिदनापुर जिले के शलबनी थाना क्षेत्र से बीजेपी के एक कार्यकर्ता बबुआ घोष को गिरफ्तार किया है। घोष पर आरोप है कि उसने राज्य की मुख्यमंत्री और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी की भद्दी और फर्जी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक घोष ने न सिर्फ ममता बनर्जी से संबंधित फर्जी तस्वीर साझा की है बल्कि बांग्ला में कई पोस्ट भी किए हैं। बबुआ घोष ने एक पोस्ट में लिखा है कि जिस व्यक्ति की समय पर शादी नहीं होती है उसे कई गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं।

उसने बांग्ला में लिखा है, “अगर किसी शख्स की शादी सही समय पर नहीं होती है तो वह पागल हो सकता है। लेकिन पूरे बंगाल के लोग अब देख सकते हैं कि जब एक लड़की की सही समय पर शादी नहीं हुई तब क्या हो रहा है?” बबुआ घोष ने इस पोस्ट के साथ सीएम ममता बनर्जी का एक फर्जी तस्वीर भी साझा किया है। तस्वीर में ममता बनर्जी के साथ ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक को आपत्तिजनक अवस्था में दिखाया गया है। बबुआ इससे पहले भी इस तरह के पोस्ट पर कमेंट कर चुका है।

बबुआ वेस्ट मिदनापुर जिले के शौला गांव का रहने वाला है। वह जिला स्तर का कार्यकर्ता है और कई मौकों पर राज्य बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष के साथ भी दिख चुका है। सूत्रों के मुताबिक जैसे-जैसे बबुआ सोशल मीडिया पर इस तरह के पोस्ट या तस्वीरें साझा करता गया, वैसे-वैसे स्थानीय लोगों ने उसकी शिकायत पुलिस में की। पुलिस ने उसका मोबाइल जब्त कर लिया है और इसके सोशल मीडिया अकाउंट को खंगाल रही है।

बता दें कि राज्य में यह पहला मामला नहीं है जब सोशल मीडिया पर पोस्ट करने की वजह से गिरफ्तारी हुई हो। इससे पहले ममता के पहले कार्यकाल के दौरान जादवपुर यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर को भी गिरफ्तार किया गया था। प्रोफेसर पर आरोप था कि उन्होंने तत्कालीन टीएमसी नेता और ममता के करीबी रहे मुकुल रॉय का एक कार्टून बनाया था। प्रोफेसर की गिरफ्तारी के बाद विरोध-प्रदर्शन हुआ था, इसके बाद उन्हें जल्द रिहा कर दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App