ताज़ा खबर
 

सर्वे: बंगाल में ममता का जादू बरकरार, 53 फीसदी लोगों ने बताया सीएम पद की पहली पसंद

बात अगर सरकार के कामकाज की हो तो सर्वे के मुताबिक करीब 43 फीसदी जनता सरकार के कामकाज से संतुष्ट दिखाई दे रही है। वहीं करीब 23 फीसदी लोगों ने सरकार के कामकाज को औसत या ठीकठाक माना है। ममता सरकार के कामकाज से असंतुष्ट जनता की संख्या सिर्फ 30 फीसदी है।

ममता बनर्जी। (file pic)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए राहत भरी खबर है। ममता दीदी की लोकप्रियता अभी भी पश्चिम बंगाल की जनता में बरकरार है। ये दावा समाचार चैनल आज तक के सर्वे में किया गया है। सर्वे के नतीजों से पता चलता है कि पश्चिम बंगाल की 53 फीसदी से ज्यादा जनता अभी भी ममता बनर्जी को ही राज्य का मुख्यमंत्री देखना चाहती है। सर्वे के नतीजों पर यकीन करें तो दूसरी किसी भी पार्टी का कोई नेता इस आंकड़े के आधे तक भी नहीं पहुंच पाया है।

आज तक और एक्सिस माई इंडिया के द्वारा करवाए गए सर्वे में इस तथ्य का खुलासा किया है। सर्वे में जनता का पसंदीदा मुख्यमंत्री कौन है? इस सवाल के जवाब 53 फीसदी जनता ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर ही भरोसा जताया है। जबकि करीब 12 फीसदी लोगों ने बीजेपी के दिलीप घोष को मुख्यमंत्री पद का बेहतर चेहरा बताया। जबकि तीसरे नंबर पर केंद्रीय मंत्री और बॉलीवुड सिंगर बाबुल सुप्रियो का नाम है। बाबुल सुप्रियो को करीब 5 फीसदी लोग मुख्यमंत्री पद का काबिल चेहरा मानते हैं। वहीं ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले मुकुल रॉय को भी 3 फीसदी लोग सीएम पद का बेहतर उम्मीदवार मानते हैं।

वहीं बात अगर सरकार के कामकाज की हो तो सर्वे के मुताबिक करीब 43 फीसदी जनता सरकार के कामकाज से संतुष्ट दिखाई दे रही है। वहीं करीब 23 फीसदी लोगों ने सरकार के कामकाज को औसत या ठीकठाक माना है। सर्वे के मुताबिक, ममता सरकार के कामकाज से असंतुष्ट जनता की संख्या सिर्फ 30 फीसदी है।

वहीं जब सर्वे में जनता से जुड़े मुद्दों की पड़ताल की गई तो करीब 34 फीसदी लोग आज भी पेयजल को सबसे बड़ी समस्या मानते हैं। वहीं 28 फीसदी लोग राज्य में रोजगार के अभाव को बड़ा मुद्दा मानते हैं जबकि 23 फीसदी लोगों के लिए स्वच्छता की कमी ही पश्चिम बंगाल की बड़ी समस्या है। जबकि क्रमश: 20 फीसदी लोग कृषि की समस्या को बड़ी दिक्कत मानते हैं तो 19 फीसदी लोग ग्रामीण सड़कों की खस्ता हालत को बड़ा मुद्दा मानते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App