ताज़ा खबर
 

बंगाल में फिर हिंसा, अस्पताल समेत कई जगह छिटपुट ब्लास्ट, लगी धारा 144, पुलिस ने बरामद किए 50 देसी बम

आम चुनाव नतीजे घोषित होने के बाद भी राज्य में बड़े पैमाने पर हिंसा की घटनाएं हुई थीं। ताजा घटनाक्रम के बारे में जानकारी देते हुए जगदल पुलिस स्टेशन के एक अफसर ने बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों ने इलाके में बम फेंके।

Author Published on: July 16, 2019 8:20 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

पश्चिम बंगाल एक बार फिर हिंसा की चपेट में है। नॉर्थ 24 परगना जिले के कांकीनारा और भाटपारा इलाके में एक अस्पताल समेत कई जगह छिटपुट धमाके हुए। हालांकि, ये ब्लास्ट कम तीव्रता के थे। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इससे पहले, पुलिस ने कई जगहों पर छापे मारे और करीब 50 देसी बम बरामद किए। इलाके में धारा 144 लगा दी गई है, जिसके तहत 4 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर रोक होती है।

बता दें कि आम चुनाव नतीजे घोषित होने के बाद भी राज्य में बड़े पैमाने पर हिंसा की घटनाएं हुई थीं। ताजा घटनाक्रम के बारे में जानकारी देते हुए जगदल पुलिस स्टेशन के एक अफसर ने बताया, ‘कुछ असामाजिक तत्वों ने इलाके में बम फेंके। इससे स्थानीय लोगों में डर फैल गया। आज उन्होंने एक अस्पताल पर हमला किया।’ पुलिस के मुताबिक, शरारती तत्वों ने भाटपारा म्युनिसिपैलिटी ऑफिस और मैत्री भवन अस्पताल के दफ्तर में भी तोड़फोड़ की।

हिंसा के मामले में कम से कम 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बैराकपुर पुलिस कमिश्नरेट के डिप्टी कमिश्नर (जोन 1) अजॉय ठाकुर ने कहा, ‘कुछ शरारती तत्वों ने सोमवार को तीन जगहों पर बम फेंके। हालांकि, अब हालात सामान्य हैं।’ उन्होंने बताया कि इलाके में पुलिस के अलावा रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती कर दी गई है। कई दुकानें, बाजार और व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे।

ठाकुर के मुताबिक, पुलिस ने विभिन्न जगहों पर नाका चेकिंग, गश्त और छापेमारी आदि बढ़ा दी है। बता दें कि ईस्टर्न रेलवे के सियालदह डिविजन के बैराकपुर-नैहाटी सेक्शन में सोमवार सुबह करीब 2 घंटे तक रेल सेवाओं पर भी असर पड़ा। आरोप है कि हिंसा का विरोध करते हुए स्थानीय लोग पटरियों पर इकट्ठा हो गए। रेलवे के मुताबिक, 16 ईएमयू लोकल ट्रेनें लेट हुईं जबकि 20 ईएमयू को कैंसल करना पड़ा। तीन एक्सप्रेस ट्रेनों को भी रास्ते में रोकना पड़ा।

सूत्रों के मुताबिक, हिंसा शुक्रवार को उस शुक्त शुरू हुई जब कांकीनारा में 30 वर्षीय संदिग्ध अपराधी प्रभु शॉ की एक उनकाउंटर में मौत हो गई। अगले दिन भाटपारा पुलिस स्टेशन के नजदीक बम फेंके गए, जिसमें 8 लोग घायल हो गए। उधर, सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी, दोनों ही पार्टियों ने एक दूसरे पर राजनीतिक फायदे के लिए समस्याएं खड़ी करने का आरोप लगाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories