ताज़ा खबर
 

पश्चिमी बंगाल: घुसपैठ रोकने को सुंदरवन में लगेंगे इन्फ्रारेड खंभे और स्मार्ट सेंसर

पश्चिम बंगाल के सुंदरवन में बांग्लादेश के साथ लगती नदी के किनारे पर जल्द ही इन्फ्रारेड खंभे और स्मार्ट सेंसर लगाए जाएंगे ताकि लगातार होने वाली घुसपैठों और तस्करी को रोका जा सके।

Author कोलकाता | June 14, 2017 04:12 am
बॉर्डर सिक्‍योरिटी फॉर्स (बीएसएफ) ने एक पाकिस्‍तानी घुसपैठिए को मार गिराया है।

पश्चिम बंगाल के सुंदरवन में बांग्लादेश के साथ लगती नदी के किनारे पर जल्द ही इन्फ्रारेड खंभे और स्मार्ट सेंसर लगाए जाएंगे ताकि लगातार होने वाली घुसपैठों और तस्करी को रोका जा सके। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने कहा कि इन्फ्रा रेड खंभे और स्मार्ट सेंसर सीमा पार से अपराधों की बढ़ती समस्या का तकनीकी जवाब है। बीएसएफ, दक्षिण बंगाल ने कहा कि इन उपकरणों को पहले ही लगाया जा चुका है। अगले तीन महीनों में मानसून खत्म हो जाने के बाद इन उपकरणों को चालू कर दिया जाएगा। एक वरिष्ठ बीएसएफ अधिकारी ने कहा कि यह परियोजना पहले सीमा पर तीन-चार किलोमीटर तक के क्षेत्र में शुरू की जाएगी। अधिकारी ने कहा कि यह परियोजना अगले तीन महीने में शुरू हो जाएगी क्योंकि हम मानसून के खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। इसके बाद हम दिसंबर तक इन उपकरणों का अवलोकन करेंगे। अगर हर चीज सही रही तो नई प्रणाली जनवरी 2018 से स्थायी तौर पर शुरू हो जाएगी। बीएसएफ सूत्रों के अनुसार प्रति किलोमीटर के लिए इन्फ्रारेड खंभों को लगाने पर करीब 25-30 लाख रुपए का खर्च आएगा।

एक अन्य बीएसएफ अधिकारी ने कहा कि फंड हमेशा चिंता का विषय होता है लेकिन हम सीमा पर 3-4 किलोमीटर तक दायरे को बढ़ाएंगे जहां विपरीत परिस्थितियों वाला इलाका होने के कारण सही तरीके से बाड़बंदी नहीं की गई है। 4,096 किलोमीटर लंबी भारत-बांग्लादेश सीमा का 2,216.7 किमी इलाका पश्चिम बंगाल में है जिसमें से 300 किमी सुंदरवन में बांग्लादेश के साथ लगती तटीय सीमा है। अधिकारी ने कहा कि इन्फ्रारेड खंभे और स्मार्ट सेंसरों की उपग्रह आधारित सिग्नल कमांड सिस्टम के जरिए निगरानी की जाएगी। इसमें रात में और कुहरे में भी नजर रखने वाले उपकरण होंगे। सेंसर के बजते ही बीएसएफ के जवानों को अलर्ट मिल जाएगा।भारत-पाकिस्तान सीमा पर अर्धसैनिक बल फरहीन लेजर वॉल तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं और उन्हें सीमा के बेहतर प्रबंधन से कई फायदे हुए हैं। बीएसएफ के सूत्रों के अनुसार इन्फ्रारेड और स्मार्ट सेंसर लगाना भारत-बांग्लादेश सीमा पर कड़ी चौकसी बरतने की केंद्र की योजना का हिस्सा है। ऐसी खुफिया सूचना मिली थी कि आतंकवादी और राष्ट्र विरोधी तत्त्व बिना बाड़बंदी और तटीय सीमा का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय और बीएसएफ ने पिछले साल जनवरी में पठानकोट आतंकवादी हमले के बाद से पश्चिमी सीमा पर लेजर वॉल लगाने के काम को तेज कर दिया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App