ताज़ा खबर
 

चिटफंड घोटाला: TMC सांसद तापस पाल गिरफ्तार, ममता ने बताया ‘राजनैतिक प्रतिशोध’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसकी जोरदार निंदा की है।

Author कोलकाता | Updated: December 30, 2016 9:30 PM
Chit Fund Scam news, Trinamool Congress news, TMC Tapas Pal, Tapas Pal Arrested, Tapas Pal news, Tapas Pal latest newsटीएमसी सांसद तपस पाल। (PTI File Photo)

तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पाल को रोज वैली चिटफंड घोटाले में कथित संलिप्तता के लिए सीबीआई ने शुक्रवार (30 दिसंबर) को गिरफ्तार किया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसकी जोरदार निंदा करते हुए इसे नोटबंदी को लेकर पार्टी के विरोध के खिलाफ केंद्र का ‘राजनैतिक प्रतिशोध’ बताया। भाजपा ने कहा कि आखिरकार कानून ने पाल को अपनी गिरफ्त में लिया है और बनर्जी से गिरफ्तारी के समय को लेकर सवाल खड़ा करके और इसे राजनैतिक प्रतिशोध बताकर राजनैतिक ‘ट्विस्ट’ नहीं देने को कहा। सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हमने तापस पाल को रोज वैली चिटफंड घोटाला में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया है। हमने उनके समक्ष कुछ सवाल रखे और उन्होंने कितनी रकम ली थी और उसका क्या आधार था इसका कोई उचित जवाब नहीं दे सके।’

अधिकारी ने बताया, ‘पाल से चार घंटे तक पूछताछ की गई थी। चूंकि वह रोज वैली की कंपनियों में से एक में निदेशक के तौर पर अपनी नियुक्ति और बंगाली फिल्म उद्योग में फर्म के निवेश करने में उनकी संलिप्तता से जुड़े सवाल का उचित जवाब देने में विफल रहे, इसलिए सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार करने का फैसला किया।’ जांच एजेंसी आगे की पूछताछ के लिए पश्चिम बंगाल से लोकसभा सदस्य पाल को पूछताछ के लिए भुबनेश्वर ले जा सकती है। सीबीआई ने पाल को कथित घोटाले के सिलसिले में 27 दिसंबर को सम्मन जारी किया था। यह चिटफंड घोटाले के उन मामलों में से एक है, जिसकी सीबीआई जांच कर रही है। उनसे एजेंसी के साल्ट लेक स्थित कार्यालय में आज (शुक्रवार, 30 दिसंबर) उपस्थित होने को कहा गया था।

ममता ने पाल की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘वे (केंद्र) हम सबको गिरफ्तार कर सकते हैं। यह और कुछ नहीं बल्कि प्रतिशोध की राजनीति है।’ पाल की गिरफ्तारी पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल कांग्रेस ने कहा कि भाजपा नोटबंदी का विरोध करने वालों के खिलाफ ‘राजनैतिक दमन’ का सहारा ले रही है। तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, ‘अब नोटबंदी का विरोध करने वालों और आंदोलन का समर्थन कर रहे लोगों पर राजनैतिक अत्याचार। हम इसके खिलाफ लड़ेंगे।’ उन्होंने दावा किया कि पार्टी और उसके नेताओं को नोटबंदी का विरोध करने के लिए केंद्र की भाजपा नीत राजग सरकार निशाना बना रही है।

सीबीआई के शुक्रवार (30 दिसंबर) को दोपहर पाल को गिरफ्तार करने के बाद एक के बाद एक किए गए कई ट्वीट में ओ ब्रायन ने कहा, ‘भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री जिन्होंने रोज वैली के लिए काम किया और उससे जुड़े थे उनका क्या होगा। क्या उन्हें आप आज रात या कल गिरफ्तार कर रहे हैं।’ राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के नेता ओ ब्रायन ने कहा, ‘कई फिल्मी सितारे, निर्देशक, खेल जगत की हस्तियां ब्रांड दूत हैं। तो आगे क्या होगा। जो भाजपा से हैं, और ब्रांड दूत हैं क्या वो भी गिरफ्तार होंगे। सही।’ पाल की गिरफ्तारी संयोगवश नोटबंदी के 50 वें दिन हुई है। उधर, भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा, ‘आखिरकार, कानून ने तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पाल को अपनी गिरफ्त में ले लिया। सीबीआई कानून की प्रक्रिया का पालन कर रही है और ममताजी को पूछताछ के समय पर सवाल खड़ा करके और इसे राजनैतिक प्रतिशोध बताकर इसे राजनैतिक मोड़ नहीं देना चाहिए। हमने पहले भी देखा है कि उन्होंने विमान दुर्घटना की साजिश और सेना के तख्तापलट की साजिश की बात गढ़ने की कोशिश की लेकिन किसी ने भी उसे नहीं माना।’

सिंह पार्टी के राज्य के प्रभारी भी हैं। उन्होंने कहा कि तृणमूल प्रमुख को जानना चाहिए कि उनके शासनकाल के ‘पाप’ अब कानून द्वारा उजागर हो रहे हैं। उन्होंने दिल्ली में कहा, ‘क्यों आपके (तृणमूल कांग्रेस) सारे नेता चिटफंड घोटाले में शामिल हैं। आपके कुशासन के पाप को देश का कानून चुनौती दे रहा है और उन्हें तापस पाल की गिरफ्तारी को अवश्य स्वीकार करना चाहिए।’ इस बीच, माकपा और कांग्रेस ने तापस पाल की गिरफ्तारी का स्वागत करते हुए उम्मीद जताई कि कानून अपना काम करेगा और तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच ‘राजनैतिक मैच फिक्सिंग’ से जांच की प्रगति प्रभावित नहीं होगी।

विधानसभा में विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान ने संवाददाताओं से कहा, ‘हम लंबे समय से इसकी मांग कर रहे हैं कि सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय को चिटफंड कंपनियों की उचित जांच करनी चाहिए। लेकिन तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच राजनैतिक मैच फिक्सिंग के बाद जांच पूरी तरह ठहर गई। हम उम्मीद करते हैं कि इस तरह की बातें दोहराई नहीं जाएंगी और मामला अपने गुण-दोष के आधार पर प्रगति करेगा और इस तरह की और गिरफ्तारियां होंगी।’ माकपा नेता सुजन चक्रवर्ती ने कहा, ‘यह राजनैतिक प्रतिशोध नहीं है, जैसा तृणमूल कांग्रेस दावा कर रही है। गिरफ्तारी लूट का नतीजा है, जो तृणमूल कांग्रेस ने चिटफंड घोटाले में किया है। हम महसूस करते हैं कि सीबीआई को मामले की सही तरीके से जांच करनी चाहिए और जिस धन की लूट की गई है, उसे वसूलना चाहिए।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रोज वैली चिटफंड केस में टीएमसी सांसद तपस पाल को सीबीआई ने किया गिरफ्तार
2 नोटबंदी: विपक्ष की कमान ममता को!
3 भाजपा नेताओं को बंगाल में हिंसाग्रस्‍त इलाकों में जाने से रोका, जुलूस के दौरान हो गई थी झड़प