X

भाजपा का मुकाबला करने को तृणमूल तैयार करेगी 30 हजार सायबर सैनिक, ममता देंगी इनाम

राज्य की मुख्यमंत्री ने वादा किया है जो भी सोशल मीडिया में भाजपा की पोस्ट को काउंटर करेगा, उसे इनाम दिया जाएगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा के आक्रमक सोशल मीडिया अभियान को चुनौती देने के लिए योजना बनाई है। पार्टी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भाजपा को चुनौती देने के लिए खुद के 30 हजार सायबर सैनिकों की टीम बनाने का फैसला लिया है। इसके अलावा राज्य की मुख्यमंत्री ने वादा किया है जो भी सोशल मीडिया में भाजपा की पोस्ट को काउंटर करेगा, उसे इनाम दिया जाएगा। सोमवार (10 सितंबर, 2018) को कोलकाता में ‘डिजिटल कॉन्क्लेव’ में फोन पर सीएम ममता ने कहा कि ‘मैं पार्टी कार्यकर्ताओं का एक डेटा तैयार करुंगी, जो सोशल मीडिया के माध्यम से राज्य भर के लोगों को सरकार और पार्टी की उपलब्धियों को बताने का काम करेंगे। इसके अलावा मैं एक और लिस्ट बनाउंगी। ये लिस्ट उन लोगों की होगी जो सोशल मीडिया में लगातार भाजपा को काउंटर कर रहे हैं और उन लोगों को काउंटर कर रहे जो हमें हराने की कोशिश कर रहे हैं। उनका बायोडेटा हमारे पास होगा और उन्हें इस काम के बदले इनाम दिया जाएगा।’

टीएमसी चीफ ने आगे कहा कि इन युवाओं में आपस में प्रतिस्पर्धा होगी, जो हमारी उपलब्धियों को उजागर करने और तथ्यों और आंकड़ों के साथ भाजपा का मुकाबला करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। सिर्फ बांग्ला भाषा ही नहीं, उन्हें (भाजपा) हिंदी भाषा में भी चौतरफा जवाब देना होगा। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने वर्ल्ड हिंदू कांग्रेस में आरएसएस और मोहन भागवत के भाषण का हवाला देते हुए कहा कि वो धर्म के नाम पर देश को बांट रहे हैं। इसलिए मैं सभी से अपील करना चाहूंगी कि ऐसे खतरनाक ट्रेंड का जवाब दें। मैं दुनिया की सबसे बेस्ट डिजिटल टीम बनाना चाहती हूं। इसलिए कृपा कर अपने परिवार को सोशल मीडिया का इस्तेमाल करना सिखाएं। उन्हें सिखाए की सोशल मीडिया में बंगाल को बांटने वालों को कैसे जवाब देना है।

इस दौरान ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने कहा कि, ‘बंगाल में 294 विधानसभा सीटें हैं और हर एक सीट पर मैं 100 सायबर सैनिक चाहता हूं। योजना के मुताबिक मोटे तौर पर 30 हजार सैनिक होंगे।’ अभिषेक बनर्जी ने आगे कहा कि पार्टी कार्यकर्ता भाजपा और उनके उन समर्थकों के पीछे पड़ जाएं जो सोशल मीडिया में झूठे तथ्य पेश करते हैं।

  • Tags: international news in hindi,
  • Outbrain
    Show comments