ताज़ा खबर
 

गोरखालैंड राज्य की मांग: ममता और गुरुंग के बीच हो सकता है टकराव

राज्य सरकार व गोजमुमो के बीच सिर्फ गोरखालैंड को लेकर ही नहीं, बल्कि पंचायत चुनाव को लेकर भी टकराव तय है।

Author कोलकाता | Published on: November 10, 2016 2:26 AM
पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी।

दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र में अलग गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (गोजमुमो) प्रमुख बिमल गुरुंग और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच एक बार फिर से टकराव बढ़ने के आसार हैं, क्योंकि गोजमुमो 13 नवंबर से गोरखालैंड की मांग को लेकर आंदोलन करने पर अटल है। एक ओर जहां राज्य सरकार गोजमुमो नेताओं को घेरने की कोशिश कर रही है, वहीं दूसरी ओर गुरुंग अपने आंदोलन को और तेज करना चाहते हैं। वे आंदोलन के फैसले पर अडिग हैं।

गोजमुमो सूत्रों के मुताबिक आंदोलन के पहले चरण में दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र को तीनों महकमा शहरों व सुकना में जनसभा आयोजन करने का जो फैसला किया गया है, वह होगा। सबसे पहले कालिम्पोंग में 13 नवंबर को जनसभा होगी। कर्सियांग में 20 नवंबर व दार्जिलिंग में 27 नवंबर को जनसभा करने का निर्णय लिया गया है। इसको लेकर जोर-शोर से तैयारी की जा रही है। इन जनसभाओं में बिमल गुरुंग, रोशन गिरि समेत गोजमुमो के तमाम आला नेता उपस्थित रहेंगे। इतना ही नहीं, ममता सरकार पर दबाव डालने के लिए सिलीगुड़ी के निकट सुकना में भी एक जनसभा का आयोजन किया जा रहा है।
सूत्रों ने बताया कि इस जनसभा में मुख्य रूप से समतल क्षेत्र के गोजमुमो समर्थक आएंगे। तराई व डुआर्स से भारी संख्या में गोजमुमो समर्थकों को इस जनसभा में लाने की तैयारी की जा रही है। सुकना में चार दिसंबर को जनसभा होनी है। इतना ही नहीं, दिल्ली में भी गोजमुमो समर्थक आंदोलन करेंगे। धरना व रैली की तैयारी की जा रही है।

मध्य प्रदेश: 500, 1000 के नोट बंद होने से नहीं हो पा रहा महिला का अंतिम संस्‍कार

मालूम हो कि राज्य सरकार व गोजमुमो के बीच सिर्फ गोरखालैंड को लेकर ही नहीं, बल्कि पंचायत चुनाव को लेकर भी टकराव तय है। राज्य सरकार दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र में दो स्तरीय पंचायत चुनाव कराना चाहती है, जबकि गोजमुमो त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराने की मांग पर अड़ा हुआ है। गोजमुमो नेता गुरुंग ने तो दो स्तरीय पंचायत चुनाव कराने की स्थिति में अदालत जाने तक की धमकी दी है। गुरुंग का कहना है कि जीटीए के गठन को लेकर जो त्रिपक्षीय समझौता हुआ है, उसमें पहाड़ पर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराने की बात है, जबकि राज्य सरकार दो स्तरीय पंचायत चुनाव करा कर गोजमुमो को कमजोर करने की साजिश कर रही है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार चाहे जितनी भी कोशिश कर ले, गोजमुमो के जनाधार में कोई कमी नहीं आएगी। आने वाले जीटीए व पंचायत चुनाव में गोजमुमो एक बार फिर से अपनी ताकत दिखाएगी। विधानसभा चुनाव के समय भी गोजमुमो ने पर्वतीय क्षेत्र की तीनों विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी किसी भी कीमत पर गोजमुमो को हराना चाहती थी। उनका कहना है कि जीटीए व पंचायत चुनाव में एक बार फिर तय हो जाएगा कि पहाड़ पर तृणमूल का नहीं, बल्कि गोजमुमो का जनाधार है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 झाड़‍ियों में छोड़ी गई नवजात बच्‍ची पर मंडरा रहे थे कौवे, चार कुत्‍तों ने बचाई जान
2 चीन ने कहा- एनएसजी में भारत की एंट्री के खिलाफ नहीं हैं, उनसे दोस्‍ती है हमारी
3 भाजपा-संघ के ख़िलाफ़ धर्मनिरपेक्ष ताकतों को साथ लाना चाहती है तृणमूल