ताज़ा खबर
 

बाबुल सुप्रियो ने उठाया ममता के लंदन दौरे की उपयोगिता पर सवाल

केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लंदन दौरे पर सवाल उठाया है। ममता का पांच दिनों का यह दौरा..
Author July 26, 2015 12:10 pm

केंद्रीय शहरी विकास राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लंदन दौरे पर सवाल उठाया है। ममता का पांच दिनों का यह दौरा रविवार से शुरू हो रहा है। शनिवार को यहां इंडियन चैंबर आॅफ कामर्स (आईसीसी) के एक कार्यक्रम के मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए बाबुल ने सवाल किया-ममता बनर्जी के लंदन दौरे की क्या उपयोगिता है? उनके लंदन दौरे से पश्चिम बंगाल को क्या फायदा होगा?

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह दौरा और कुछ नहीं, बल्कि पैसे का दुरुपयोग है। उन्होंने फिर सवाल किया कि जब विदेश दौरे पर इतने रुपए खर्च किए जा रहे हैं तो राज्य सरकार कर्मचारियों के बकाए डीए (महंगाई भत्ता) का भुगतान क्यों नहीं कर रही है? बाबुल ने कहा कि ममता बनर्जी नो कोलकाता को लंदन में तब्दील करने का वादा किया है। हमें खुशी मिलती अगर इसका एक हिस्सा भी हो पाता।

मालूम हो कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लंदन दौरे में उनके साथ नौकरशाहों, सांसदों व व्यापारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी जा रहा है। भाजपा के सांसद बाबुल सुप्रियो ने ममता बनर्जी के शासन में चल रहे सिंडीकेट राज के लिए भी राज्य सरकार की कड़ी आलोचना की और आरोप लगाया कि सिंडीकेट के कारण ही इस राज्य में औद्योगिक निवेश नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि सिंडीकेट राज के कारण उद्योगपतियों के यहां कारोबार करने में कठिनाई हो रही है। बाबुल ने यह आरोप भी लगाया कि ममता बनर्जी के शासन में पश्चिम बंगाल में विकास नहीं हो पाया है।

भाजपा के नेता ने पूछा-अभी तक राज्य ने क्या हासिल किया है? यह ऐसे राज्य की एक मिसाल है, जहां कार्य संस्कृति में सुधार करने की जरूरत है। लंबे समय से मैं देख रहा हूं कि निजी निवेशकों को यहां निवेश करने लायक माहौल ही नहीं मिल रहा है। यह भी देखा जा रहा है कि राज्य में एक के बाद एक उद्योग बंद हो रहे हैं।

बाबुल ने कहा-मैं राज्य के वित्त व उद्योग मंत्री अमित मित्र से पूछना चाहता हूं कि उद्योग लगाने के लिए राज्य में कितनी जमीन है? राज्य में जेएनएनयूआरएम स्कीम का उल्लेख करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने 75 स्कीमों के लिए 7620 करोड़ रुपए का आबंटन किया है, लेकिन दुर्भाग्य से 31 मार्च 2015 तक सिर्फ 34 स्कीम का काम ही पूरा हो पाया है।

इस मौके पर बाबुल ने पूर्वी क्षेत्र में बुनियादी ढांचे की खराब स्थिति का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि देश के पूर्वी क्षेत्र में बुनियादी ढांचे का पूरा अभाव है। ऐसे में विदेशी निवेशक यहां क्यों आएंगे? बाबुल ने कहा कि इस राज्य में काफी चीजें राजनीतिक रूप से की जाती हैं, लेकिन राजनीति से ज्यादा तर्क को आगे रखना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App