ताज़ा खबर
 

आपत्तिजनक पोस्ट के बाद पश्चिम बंगाल में भड़की सांप्रदायिक हिंसा, हालात काबू करने के लिए केन्द्र ने भेजी पैरामिलिट्री फोर्स की तीन कंपनियां

हालात पर काबू पाने में स्थानीय पुलिस की मदद के लिए अर्द्धसैन्य बलों की तीन कंपनियों लगभग 300 जवानों को राज्य रवाना किया गया है।

फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट के बाद पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना में दंगा भड़क गया। (Photo-facebook)

फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट को लेकर पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गयी जिसके बाद केंद्र ने आज 300 अर्द्धसैन्य बलों को वहां भेजा है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता में कहा कि आपत्तिजनक पोस्ट को लेकर जिले के बसिरहाट सब डिवीजन के बदुरिया में दो समुदायों के सदस्यों के बीच झड़पें हुयी । दिल्ली में आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एक धार्मिक स्थल के बारे में फेसबुक पोस्ट को लेकर कल शाम झड़प हुयी थी। उन्होंने बताया कि हालात पर काबू पाने में स्थानीय पुलिस की मदद के लिए अर्द्धसैन्य बलों की तीन कंपनियों लगभग 300 जवानों को राज्य रवाना किया गया है। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उत्तरी 24 परगना में ये विवाद तब हुआ जब एक पवित्र स्थल के बारे में फेसबुक पर टिप्पणी की गई। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दोनों ही समुदाय के धर्मगुरुओं की निंदा की है और कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

इधर बीजेपी ने आरोप लगाया है कि उत्तरी 24 परगना में मुस्लिम समुदाय के 2000 लोगों ने हिन्दू परिवारों पर हमला कर दिया है। पश्चिम बंगाल के बीजेपी इंचार्ज कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा कि 24 परगना एवं बसीरहाट जिले में कल रात से बांग्लादेशी मुस्लिम घुसपैठियों द्वारा मौत का तांडव जारी है। उन्होंने घटना से संबंधित कई ट्वीट भी किये। कैलाश विजयवर्गीय ने मामले में गृहमंत्री से दखल की मांग की है।

इस घटना के बाद पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना में सुरक्षा बेहद कड़ी कर दी गई है। जगह-जगह पश्चिम बंगाल पुलिस के जवान गश्त लगा रहे हैं। और संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया जा रहा है। इधर इस हिंसा के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई है। सीएम ममता बनर्जी ने राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी पर उन्हें धमकाने का आरोप लगाया और कहा कि वह ”भाजपा के प्रखंड अध्यक्ष” की तरह बर्ताव कर रहे हैं। ममता ने राज्य सचिवालय में संवाददाताओं से कहा, ”उन्होंने :राज्यपाल: मुझे फोन पर धमकी दी। जिस तरह से उन्होंने भाजपा का पक्ष लेते हुए बात की, उससे मैंने अपमानित महसूस किया। मैंने उनसे कह दिया कि वह मुझसे इस तरह बात नहीं कर सकते हैं।” उन्होंने कहा, ””वह :राज्यपाल: भाजपा के प्रखंड अध्यक्ष की तरह बर्ताव कर रहे हैं। ममता ने कहा, ”उन्होंने कानून व्यवस्था पर बड़ी बड़ी बात की। मैं यहां किसी की दया पर नहीं हूं। जिस तरीके से उन्होंने मुझसे बातचीत की, एकबार तो मैंने :कुर्सी: छोड़ने की सोची।” वहीं राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने ममता बनर्जी के इन आरोपों का खंडन किया और कहा उन्होंने कुछ भी ऐसा नहीं कहा जो सीएम की गरिमा के खिलाफ हो।

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी का तृणमूल कांग्रेस पर सियासी सर्जिकल स्ट्राइक, ममता बनर्जी के 6 विधायक रामनाथ कोविंद के पक्ष में कर सकते हैं मतदान
2 वीडियो: महिला को बुरी तरह पीटा, कपड़े फाड़े फिर ट्रैक्टर से बांधकर तीन घंटे तक घुमाया, देखते रहे लोग
3 दार्जीलिंग में हालत खराब: होटलों ने ग्राहकों से कहा- खाली कीजिए, नहीं है खाना
ये पढ़ा क्या ?
X