राहुल के कोरोना पॉजिटिव होने पर बीजेपी नेता का तंज, कहा- झूठ बोलते हैं इसीलिए हुए संक्रमित

कैलाश विजयवर्गीय ने पत्रकारों से कहा, "सभा करने, प्रचार करने से बंगाल में कोई फर्क नहीं पड़ता। कांग्रेस है ही नहीं। वहां सिर्फ दो डिस्ट्रिक्ट में कांग्रेस है मालदा और मुर्शिदाबाद में। उसके अलावा कांग्रेस है ही नहीं। दोनों डिस्ट्रक्ट में राहुल गांधी सभा करके आ गए, वहां लोग ही नहीं आए।"

SHIV SENA, SAMANA, RAHUL GANDHI, SONIA GANDHI, MODI GOVERNMENTकांग्रेस नेता राहुल गांधी। (फोटो- पीटीआई)

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने हाल ही में कहा कि कोरोना को देखते हुए वे बंगाल में सभा नहीं करेंगे। इस समय सभा की नहीं लोगों का दर्द बांटना जरूरी है। उनके इस बयान पर भाजपा के वरिष्ठ नेता और बंगाल में पार्टी के लिए लंबे समय से चुनावी तैयारी की देखरेख कर रहे कैलाश विजयवर्गीय ने तंज कसा है। उन्होंने कहा कि बंगाल में कांग्रेस है ही नहीं तो राहुल जी वहां सभा कहां करेंगे। वे झूठ बोलते हैं इसलिए वे कोरोना पॉजिटिव हो गए।

कैलाश विजयवर्गीय ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “सभा करने, प्रचार करने से बंगाल में कोई फर्क नहीं पड़ता। कांग्रेस है ही नहीं। वहां सिर्फ दो डिस्ट्रिक्ट में कांग्रेस है मालदा और मुर्शिदाबाद में। उसके अलावा कांग्रेस है ही नहीं। दोनों डिस्ट्रक्ट में राहुल गांधी सभा करके आ गए, वहां लोग ही नहीं आए। उनका काम खत्म हो गया। राहुल गांधी बोले मैं बंगाल में सभा नहीं करूंगा, भाई पहले ये तो बताओ तुम्हारे कार्यक्रम बंगाल में थे क्या पहले? ये तो बताओ तुम्हारा शेड्युल था क्या जो कैंसल किया। दो जिलों में कांग्रेस थी, दो जिलों में सभा कर दी। उसके बाद तो कोई काम ही नहीं था।”

जब पत्रकारों ने कहा कि वे कोरोना पॉजिटिव हो गए तो विजयवर्गीय बोले- झूठ बोलने के बाद ऐसा ही होता है। मंगलवार दोपहर को राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि वे कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने संपर्क में आए सभी लोगों से सावधानी बरतने की अपील भी की थी।

उनके ट्वीट के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हुए ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा, “मैं लोकसभा सांसद राहुल गांधी के अच्छे स्वास्थ्य और जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।” 

राहुल गांधी के बंगाल में सभा नहीं करने और चुनाव प्रचार के दौरान कम जाने पर राजनीतिक हलके में तमाम तरह की बातें कही जा रही थीं। इसको लेकर उनकी कई बार आलोचना भी हो चुकी है।

Next Stories
1 असम में नतीजों से पहले बढ़ रही सरगर्मी
2 चुनाव नतीजों के बाद विपक्ष की नई गोलबंदी की तैयारी
3 गोरखालैंड मुद्दा नहीं
यह पढ़ा क्या?
X