ताज़ा खबर
 

लोग भूल गए कि ममता बनर्जी हिंदू हैं या नहीं- बोले संगीत रागी, टीएमसी प्रवक्ता ने दिया जवाब

टीएमसी के प्रवक्ता मनोजीत मंडल से पूछा तो उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने ऐसी बात नहीं की है। वह केवल सबको एकजुट करके भाजपा से दूरी बनाने का आह्वान कर रही थीं। कहा कि भाजपा के लोग लोगों को लड़ाने में जुटे हैं। ये पैट्रीयार्की है।

West bengal election 2021बंगाल के सिंगूर में बुधवार को भाजपा के रोड-शो में उमड़े समर्थक। (फोटो- पीटीआई)

पश्चिम बंगाल के सियासी संग्राम में जाति के साथ धार्मिक नारों की गूंज भी तेज होती जा रही है। ममता बनर्जी पर भी धर्म का रंग गहरा होता जा रहा है। हाल ही में मंच से उन्होंने हरे कृष्ण हरे हरे का अलाप किया। इससे पहले कई बार वो मंच से ही चंडी पाठ कर चुकी हैं। नामांकन से पहले भी वो मंदिर गई थीं। बंगाल में अब खुलकर हिंदुत्व का कार्ड खेला जा रहा है। भाजपा की तरफ से भी और टीएमसी की तरफ से भी कभी चंडी पाठ और कभी हरे कृष्ण का जाप करने वाली ममता बनर्जी को असल में बीजेपी ने ऐसा करने के लिए सियासी तौर पर मजबूर कर दिया है। बीजेपी ने हिंदू ध्रुवीकरण की ऐसी जमीन तैयार की है कि ममता इसका तोड़ नहीं निकाल पा रही हैं।

आजतक न्यूज चैनल पर दंगल कार्यक्रम में एंकर रोहित सरदाना ने कहा कि पीएम ने एक चुनावी रैली में कहा कि ममता बनर्जी ने मुसलमान वोट बैंक का कार्ड खेल रही हैं और कहा है कि सभी मुसलमान सिर्फ टीएमसी को वोट दें। उनके मुताबिक पीएम ने यह भी कहा कि कि अगर ऐसी बात हमने कही होती तो चुनाव आयोग का नोटिस आ गया होता। इसको लेकर एंकर रोहित सरदाना ने टीएमसी के प्रवक्ता मनोजीत मंडल से पूछा तो उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने ऐसी बात नहीं की है। वह केवल सबको एकजुट करके भाजपा से दूरी बनाने का आह्वान कर रही थीं। कहा कि भाजपा के लोग लोगों को लड़ाने में जुटे हैं। ये पैट्रीयार्की है।

दूसरी तरफ राजनीतिक विश्लेषक संगीत रागी ने कहा लोगों को यह पता ही नहीं है कि ममता बनर्जी हिंदू या नहीं। इसीलिए बार-बार ममता जी को बताना पड़ रहा है कि हम हिंदू हैं। उन्हें देवी मंदिर पर जाना पड़ रहा है। चंडी पाठ करना पड़ रहा है। उन्हें अपना गोत्र बताना पड़ रहा है।

संगीत रागी ने कहा कि ममता जी हिंदू कार्ड खेलकर सिर्फ लोगों को याद दिलाना चाहती हैं कि वे भी हिंदू हैं। हालांकि जनता यह जानने को इच्छुक नहीं है कि वे हिंदू हैं या नहीं हैं। क्योंकि वह कभी सिर पर पल्लू रखकर दुआएं करती हैं तो कभी धर्म के खिलाफ बोलने लगती हैं। कभी कहती हैं कि सभी मुसलमान भाजपा से दूर हो जाओ और वह मुसलमानों को अपना वोट बैंक मानने लगती हैं। बाद में वे हिंदू बनकर चंडी पाठ करने लगती हैं।

वरिष्ठ पत्रकार विनोद अग्निहोत्री ने कहा कि चुनाव के दौरान सभी तीर चलते हैं, और सभी तरह की बातें होती हैं। कहा कि पीएम जब भाषण देते हैं तो वे एक चतुर राजनेता की तरह बोलते हैं। प्रधानमंत्री की तरह कम, भाजपा नेता की तरह ज्यादा वे भाषण देते हैं।

Next Stories
1 टालीगंज सीट पर तृणमूल के प्रचार में जुटीं जया बच्चन
2 महिला मतों से धराशायी सियासी समीकरण
3 ऐंकर ने दीदी ओ दीदी कहने को बताया आपत्तिजनक, बोले अवनिजेश- पीएम को पत्थर का रसगुल्ला भेज रही थीं ममता, हम तो नहीं चिढ़े
ये पढ़ा क्या?
X