ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल उपचुनाव नतीजे 2018: तृणमूल कांग्रेस की बची नाक, भाजपा की उम्‍मीदों को झटका

West Bengal Up Chunav Election Result 2018, West Bengal Lok Sabha Election Result 2018: पश्चिम बंगाल उपचुनाव के नतीजों ने ममता बनर्जी को राहत दी है, वहीं राज्य में जोर आजमाइश कर रही बीजेपी को इस बार भी झटका लगा है। तृणमूल कांग्रेस ने नोआपाड़ा विधानसभा सीट में जबर्दस्त जीत हासिल की है। नोआपाड़ा में टीएमसी कैंडिडेट को 1 लाख 11 हजार 729 वोट मिले हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी।

पश्चिम बंगाल उपचुनाव के नतीजों ने ममता बनर्जी को राहत दी है, वहीं राज्य में जोर आजमाइश कर रही बीजेपी को इस बार भी झटका लगा है। तृणमूल कांग्रेस ने नोआपाड़ा विधानसभा सीट में जबर्दस्त जीत हासिल की है। नोआपाड़ा में टीएमसी कैंडिडेट को 1 लाख 11 हजार 729 वोट मिले हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक इस सीट पर बीजेपी के संदीप बनर्जी दूसरे नंबर पर रहे, उन्हें 35 हजार 980 वोट मिले। वामपंथी मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) का उम्मीदवार नोअापाड़ा में तीसरे स्थान पर रहा, उलुबेरिया में भी यही स्थिति है। दोनों निर्वाचन सीटों पर कांग्रेस काफी पीछे चौथे स्थान पर है। कांग्रेस ने वाममोर्चा के साथ गठबंधन में नोअपाड़ा सीट जीती थी, लेकिन अब यह सीट टीएमसी के खाते में चली गई है।  उलूबेरिया लोकसभा सीट पर भी ममता बनर्जी की टीएमसी आगे चल रही है। यहां पर बीजेपी दूसरे नंबर पर है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक उलूबेरिया सीट पर टीएमसी के सजदा अहमद को अबतक 40 हजार 829 वोट मिले हैं, जबकि बीजेपी कैंडिडेट को 17 हजार 625 और सीपीआईएम कैंडिडेट को 8 हजार 576 वोट मिले हैं।

बता दें कि 29 जनवरी को नोआपाड़ा और उलूबेरिया सीटों पर उपचुनाव के लिए वोट डाले गये थे। उलूबेरिया में 76 प्रतिशत मतदान हुआ था, जबकि नोआपाड़ा सीट पर 75.5 फीसदी मतदान हुआ था। उलूबेरिया सीट पर टीएमसी के सजदा अहमद और सीपीएम की अगुवाई में वाम मोर्चा के सबीरुद्दीन मोल्ला, कांग्रेस के एस के मदस्सर हुसैन और बीजेपी उम्मीदवार अनुपम मल्लिक के बीच है। उलूबेरिया से टीएमसी के सांसद सुल्तान अहमद की मौत की वजह से इस लोकसभा सीट पर चुनाव कराना पड़ा था। यह सीट पश्चिम बंगाल के प्रतिष्ठित हावड़ा में पड़ता है। नोआपाड़ा में कांग्रेस विधायक मघुसूदन घोष की मौत की वजह से इस विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराना पड़ा। बता दें कि पश्चिम बंगाल में इसी साल पंचायत चुनाव होने हैं। इस लिहाज से इस उपचुनाव का काफी महत्व है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App