ताज़ा खबर
 

तृणमूल कांग्रेस नेता ने सरकारी ज़मीन पर चंदे से बना दफ़्तर बेच दिया- पार्टी में पहुंची शिकायत

युवा नेताओं ने इसकी शिकायत टीएमसी के ब्लॉक अध्यक्ष अति बंदोपाध्याय से की है। शिकायत में नेताओं ने कहा है कि एरिया कमेटी अध्यक्ष मानब कुमार समांता ने बीते हफ्ते गैर कानूनी रूप से पार्टी के ऑफिस को बेच दिया है।

TMC WEST BENGAL MAMATA BANERJEEटीएमसी नेता पर लगा पार्टी ऑफिस बेचने का आरोप। (फाइल)

पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर जिले के कोलाघाट इलाके में टीएमसी के एक नेता पर सरकारी जमीन पर चंदे से बने पार्टी ऑफिस को बेचने का आरोप लगा है। यह आरोप किसी और ने नहीं बल्कि टीएमसी के ही स्थानीय युवा नेताओं द्वारा लगाया गया है। स्थानीय नेताओं का आरोप है कि पार्टी के कमेटी अध्यक्ष ने पार्टी ऑफिस को गैर-कानूनी तरीके से बेच दिया है। जो प्रॉपर्टी बेची गई है, वह गंगामोर शहर में स्थित है।

युवा नेताओं ने इसकी शिकायत टीएमसी के ब्लॉक अध्यक्ष अति बंदोपाध्याय से की है। शिकायत में नेताओं ने कहा है कि एरिया कमेटी अध्यक्ष मानब कुमार समांता ने बीते हफ्ते गैर कानूनी रूप से पार्टी के ऑफिस को बेच दिया है। बता दें कि समांता पंचायत समिति का पूर्व अध्यक्ष भी रह चुका है। वहीं आरोपी नेता का कहना है कि वह उसकी निजी संपत्ति थी। टेलीग्राफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बताया कि शुक्रवार की शाम उन्होंने देखा कि पार्टी ऑफिस से पार्टी के पोस्टर व बैनर आदि गायब हैं।

पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इस बात की छानबीन की तो पता चला कि 1000 स्कवायर फीट में बनी एक स्टोरी बिल्डिंग एक व्यापारी शेख राजा द्वारा खऱीद ली गई है। एक स्थानीय नेता सैयद असलम का कहना है कि यह ऑफिस दो साल पहले सिंचाई विभाग की जमीन पर बना था और 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले और 2018 के पंचायत चुनाव में पार्टी का चुनावी ऑफिस रहा। अब समांता ने यह प्रॉपर्टी निजी बताकर बेच दी है।

टीएमसी कार्यकर्ताओं का कहना है कि पार्टी ऑफिस चंदा इकट्ठा कर बनाया गया था और समांता के पास ही पार्टी ऑफिस की चाबी होती थी। उसने हमारे साथ विश्वासघात किया है। वहीं आरोपी टीएमसी नेता समांता का कहना है कि उसने खुद इस बिल्डिंग का निर्माण कराया था और इसे बतौर पार्टी ऑफिस इस्तेमाल करने की इजाजत दी थी लेकिन यह हमेशा से उसकी संपत्ति थी।

तृणमूल कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष बंदोपाध्याय का कहना है कि उन्हें इस मुद्दे को लेकर शिकायत मिली है और मामले की जांच के लिए एक जांच कमेटी का गठन किया जाएगा। अगले हफ्ते इस मुद्दे पर बैठक होगी। वहीं सिंचाई विभाग की जमीन पर पार्टी ऑफिस के निर्माण को लेकर जब विभाग के इंजीनियर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वह इस मामले की जांच कराएंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपीः डॉ. कफील खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत, एनएसए के आरोप खारिज, तुरंत रिहाई का आदेश
2 बिहार में कोरोना से मरने वालों की संख्या हुई 722, पटना में सबसे ज्यादा, शिवहर में सबसे कम मौत
3 फेसबुक की वजह से फैले दिल्ली में दंगे! दिल्ली विधानसभा की समिति ने दी रिपोर्ट; आरोपों पर कंपनी से नहीं मिला जवाब
ये पढ़ा क्या?
X