ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल चुनाव: येचुरी ने कहा- तृणमूल के आतंक के आगे नहीं झुकेंगे हम

नारद स्टिंग ऑपरेशन के प्रसंग में येचुरी ने आरोप लगाया कि बिना पार्टी नेतृत्व के संरक्षण के यह सब नहीं हो सकता।

Author कोलकाता | April 24, 2016 04:55 am
माकपा महासचिव सीताराम येचुरी (पीटीआई फोटो)

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान घटी हिंसा की घटनाओं को ‘अप्रत्याशित’ बताते हुए माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि उनकी पार्टी आतंक की राजनीति के आगे सिर नहीं झुकाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि चुनावी हिंसा के पीछे सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस का हाथ है। उन्होंने कहा कि सत्ताधारी पार्टी जितना अधिक दबाव और आतंक की राजनीति के रास्ते पर चलेगी, माकपा उतना ही उसका विरोध करेगी।

शनिवार को माकपा के प्रदेश मुख्यालय अलीमुद्दीन स्ट्रीट में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में येचुरी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा अप्रत्याशित है। अब तक हमारी पार्टी के सात कार्यकर्ता मारे गए हैं। इनमें चार की मौत तीसरे चरण के मतदान के दौरान व तीन की मौत पहले हुई है। माकपा के महासचिव ने तृणमूल की तरफ इशारा करते हुए कहा कि यह पार्टी जितना ज्यादा हिंसा को बढ़ावा देगी, लोग उसका उतने ही कड़े रूप से प्रतिरोध करेंगे। येचुरी ने कहा, ‘हम चुनौती का सामना करेंगे।’ उन्होंने कहा कि जहां तक माकपा का संबंध है, डराने-धमकाने से इस पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

माकपा महासचिव ने कहा कि जब तक सत्ताधारी पार्टी का संरक्षण प्राप्त नहीं होगा, इस तरह की हिंसा कभी नहीं हो सकती। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि माकपा आतंक की राजनीति के सामने नहीं झुकेगी और हर हाल में हिंसा व आतंक का विरोध करने के लिए तत्पर रहेगी। पत्रकारों ने जब येचुरी से पूछा कि प्रतिरोध का कौन सा तरीका उनकी पार्टी अपनाएगी तो उन्होंने कहा, ‘हमारी पार्टी इसके लिए तृणमूलियों की तरह बम के इस्तेमाल का सहारा नहीं लेगी, बल्कि लोगों के द्वारा सामूहिक रूप से इसका प्रतिरोध किया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से चलाया गया दबाव अब तक सफल रहा है और हमारी पार्टी इसी तरीके पर जोर देगी।

नारद स्टिंग ऑपरेशन के प्रसंग में येचुरी ने आरोप लगाया कि बिना पार्टी नेतृत्व के संरक्षण के यह सब नहीं हो सकता। मालूम हो कि हाल ही में नारद स्टिंग ऑपरेशन में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के नेता, सांसद व मंत्रियों को रिश्वत लेते हुए दिखाया गया था। पत्रकारों से बातचीत में इस प्रसंग का उल्लेख करते हुए माकपा के महासचिव ने तृणमूल कांग्रेस की तरफ संकेत करते हुए कहा कि आप अपने मुख्यमंत्री से कहें कि अगर बीस सदस्यों के परिवार में दो ने कुछ गलत कर दिया है और मां ने उस पर नियंत्रण नहीं किया तो इस तरह (नारद स्टिंग कांड) की घटनाएं घट सकती हैं।

येचुरी ने कहा कि तृणमूल के ऐसे नेताओं को वे (ममता बनर्जी) संरक्षण प्रदान कर रही हैं। उन्होंने कहा कि बिना नेता के संरक्षण के ऐसी घटनाएं नहीं घट सकतीं। माकपा के महासचिव ने आज यह भी कहा कि मामता बनर्जी ने अप्रत्यक्ष रूप से यह मान लिया है कि उनकी पार्टी के नेताओं ने पैसे लिए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App