ताज़ा खबर
 

जारी है CBI और बंगाल पुलिस में जंग, उगाही केस में ज्वाइन्ट डायरेक्टर को नोटिस- एक हफ्ते में थाने में हों पेश

भारती घोष एक वक्त पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की नजदीकी मानी जाती थीं। भारती घोष करीब 6 साल तक पश्चिमी मिदनापुर की पुलिस अधीक्षक रहीं थी।

बंगाल पुलिस ने सीबीआई निदेशक को भेजा नोटिस। (express photo)

पश्चिम बंगाल पुलिस और केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई के बीच जारी खींचतान अभी भी जारी है। दरअसल पश्चिम बंगाल के चर्चित उगाही केस में पश्चिम बंगाल पुलिस ने सीबीआई के संयुक्त निदेशक पंकज श्रीवास्तव को नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में पश्चिम बंगाल पुलिस ने सीबीआई निदेशक को एक हफ्ते में भोवानीपुर पुलिस स्टेशन में हाजिर होने को कहा है। बता दें कि फरवरी 2018 में पश्चिम बंगाल पुलिस ने पश्चिम मिदनापुर जिले में उगाही का एक मामला दर्ज किया था। इस मामले में रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी भारती घोष के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया था। सीआईडी इस मामले की जांच कर रही है।

उल्लेखनीय है कि भारती घोष एक वक्त पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की नजदीकी मानी जाती थीं। भारती घोष करीब 6 साल तक पश्चिमी मिदनापुर की पुलिस अधीक्षक रहीं थी। इसके बाद आईपीएस भारती घोष का तबादला स्टेट आर्म्ड पुलिस की तीसरी बटालियन की कमांडेंट के तौर पर कर दिया गया। लेकिन ट्रांसफर के दो दिन बाद ही भारती घोष ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। फरवरी 2018 में भारती घोष के खिलाफ उगाही केस में गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया। इस मामले में पुलिस ने भारती घोष के कई ठिकानों पर छापेमारी भी की थी। पश्चिम बंगाल पुलिस उगाही केस में कई पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तार कर चुकी है। हाल ही में बीती 4 फरवरी को पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली है।

उगाही केस के अलावा शारदा चिटफंड मामले में भी पश्चिम बंगाल पुलिस और सीबीआई के बीच की तनातनी सामने आयी थी। दरअसल कुछ दिनों पहले ही सीबीआई ने शारदा चिटफंड घोटाले में पूछताछ के लिए पेश ना होने पर कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के आवास की घेराबंदी कर दी थी। इसे ममता बनर्जी ने राज्य की स्वायत्ता में दखल मानते हुए धरना शुरु कर दिया था। राजीव कुमार भी ममता बनर्जी के साथ धरने पर बैठ गए थे। वहीं पश्चिम बंगाल पुलिस ने भी इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए सीबीआई के अधिकारियों को हिरासत में ले लिया था। हालांकि बाद में कोर्ट के दखल के बाद यह मामला शांत हुआ था और कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार शिलांग में सीबीआई के समक्ष पूछताछ के लिए पेश हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App