ताज़ा खबर
 

ममता बनर्जी को एक और झटका, अलीद्वारपुर के कलचीनी से टीएमसी विधायक समेत 18 पार्षद भाजपा में आज शामिल होंगे

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले ममता को एक और झटका लगा है। अलीपुरद्वार के कलचीनी से टीएमसी विधायक विल्सन चंपरामरी समेत 18 विधायक सोमवार को भाजपा में शामिल होंगे।

Author नई दिल्ली | June 24, 2019 2:49 PM
विधायक विल्सन का कहना है कि कुछ और नेता भाजपा शीर्ष नेतृत्व के संपर्क में हैं। (फोटोः एएनआई)

पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पार्टी के नेताओं का भाजपा में शामिल होने का क्रम थम ही नहीं रहा है। अब अलीपुरद्वार में कलचीनी से विधायक विल्सन चामपरामरी ने कहा है कि वह पार्टी के 18 पार्षदों के साथ सोमवार को भाजपा में शामिल हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पार्टी के कई और नेता भी भाजपा में शामिल होने के लिए पार्टी हाईकमान के संपर्क में हैं। इन नेताओं के शामिल होने के बाद भाजपा के अलीपुरद्वार और दिनाजपुर क्षेत्र में अपनी जमीन को मजबूत करने में मदद मिलेगी। विल्सन साल 2013 में टीएमसी में शामिल हुए थे। टीएमसी विधायक फिलहाल दिल्ली में ही हैं।

इससे पहले टेलीग्राफ से बातचीत में टीएमसी विधायक ने कहा था कि मैं एक विधायक हूं और मैं स्वतंत्र रूप से अपने विधानसभा क्षेत्र में कोई विकास कार्य नहीं करा सकता हूं। उन्होंने कहा, ‘मैंने पार्टी और कई मंत्रियों से कहा कि क्षेत्र में मेछ, रावा और बोडो समुदाय के लोगों के लिए समाजिक-आर्थिक विकास की योजनाएं लाई जानी चाहिए। लेकिन अब तक इस संबंध में कुछ भी नहीं हुआ। मैं इससे बहुत निराश हूं। इसलिए मैंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया है।’

इस बाबत पूछे जाने पर अलीपुरद्वार टीएमसी प्रमुख ने कहा, ‘मैं अभी चेन्नई में हूं मुझे कलचीनी के विधायक के भाजपा में शामिल होने की कोई जानकारी नहीं है। लेकिन यदि हमारी पार्टी के लोग भाजपा में शामिल होते भी हैं तो इससे हमारी पार्टी को प्रभाव नहीं पड़ेगा।’ विल्सन के अतिरिक्त दक्षिण दिनाजपुर जिले से टीएमसी के पूर्व विधायक बिप्लब मित्रा और उनके भाई प्रशांत भी दिल्ली में ही हैं।

प्रशांत गंगारामपुर नगर निगम के अध्यक्ष हैं। भाजपा में शामिल होने वालों में गंगारामपुर और बुनियादपुर के पार्षद भी शामिल हैं। बिप्लब मित्रा टीएमसी की तरफ से बालूरघाट संसदीय सीट से सांसद अर्पिता घोष को दूसरी बार उम्मीदवार बनाए जाने से नाराज थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App