ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल: ‘जय श्रीराम’ नहीं बोलने पर पीटे गए 5 टीएमसी कार्यकर्ता, बीजेपी का घटना में हाथ होने से इनकार

पांचों घायलों को सबसे पहले करनदीघि प्राइमरी हेल्थ सेंटर ले जाया गया। इसके बाद 2 घायलों को रायगंज गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल शिफ्ट कर दिया गया।

Author दिनाजपुर | July 4, 2019 8:58 AM
प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने बुधवार (3 जुलाई) को आरोप लगाया कि बीजेपी समर्थकों ने उत्तरी दिनाजपुर में टीएमसी के 5 कार्यकर्ताओं के साथ उस वक्त मारपीट की, जब उन्होंने जय श्रीराम के नारे लगाने से साफ इनकार कर दिया। बताया जा रहा है कि यह घटना करनदीघि थाना एरिया के सिंगरदाहा गांव में हुई। हालांकि, बीजेपी ने घटना में हाथ होने से इनकार किया है।

पुलिस के मुताबिक, पांचों घायलों को सबसे पहले करनदीघि प्राइमरी हेल्थ सेंटर ले जाया गया। इसके बाद 2 घायलों को रायगंज गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल शिफ्ट कर दिया गया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

National Hindi News, 04 July 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

सूत्रों के मुताबिक, टीएमसी के 5 कार्यकर्ता एक तालाब में मछलियां पकड़ रहे थे। उस दौरान बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने गोतस्कर होने के शक में उनके साथ मारपीट शुरू कर दी। आरोप है कि इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने टीएमसी समर्थकों से जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए कहा, जिसके लिए उन्होंने इनकार कर दिया। टीएमसी के एक स्थानीय नेता ने बताया कि इस मामले में करनदीघि थाने में बीजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है। फिलहाल किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

पश्चिम बंगाल बीजेपी ने इस घटना में अपना हाथ होने से इनकार किया है। उनका कहना है कि टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच आपस में हाथापाई हुई थी। बीजेपी पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। बीजेपी के एक स्थानीय नेता का कहना है कि टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच लेन-देन को लेकर मारपीट हुई थी और उसका आरोप वे हम पर लगा रहे हैं।

 

Bihar News Today, 04 July 2019: बिहार की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे घोषित होने के बाद भी पश्चिम बंगाल में बीजेपी व टीएमसी के बीच तनाव बरकरार है। हालात ऐसे हैं कि अब तक दोनों दलों के कई कार्यकर्ताओं की हत्या हो चुकी है। वहीं, दोनों पार्टियों के समर्थक एक-दूसरे के कार्यालयों पर भी हमला बोल चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App