ताज़ा खबर
 

बंगाल चुनाव 2021: जोड़े ने निकाह में आए मेहमानों से कर दी BJP को वोट न देने की अपील, रिसेप्शन में पढ़ी संविधान की प्रस्तावना

अपने रिसेप्शन में भाजपा का विरोध करने के सवाल पर युवक ने कहा, "चूंकि मतदान की तारीखें नजदीक हैं, इसलिए मैं अपने रिसेप्शन को ही भाजपा के खिलाफ अभियान के लिए इस्तेमाल करना चाहता था।"

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र बीरभूम | Updated: March 14, 2021 8:07 AM
पूर्वी बर्दवान में हुए निकाह के रिसेप्शन में जोड़े ने की भाजपा को वोट न देने की अपील। (फोटो- The Telegraph)

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में अब काफी कम समय रह गया है। ऐसे में राजनीतिक दल एक-दूसरे के खिलाफ हमले तेज करते हुए प्रचार में जुटे हैं। राज्य में राजनीति की फिजा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कई जगहों पर तो आम लोग भी पार्टियों का समर्थन या विरोध करते दिखाई दे रहे हैं। ऐसा ही नजारा बंगाल के पूर्वी बर्दवान स्थित गलसी में हुए एक निकाह में भी दिखा। यहां एक रिसेप्शन में जोड़े ने ही पोस्टर दिखाकर मेहमानों से भाजपा को वोट न देने की अपील की।

निकाह करने वाले युवक का नाम शेख मोहम्मद हफीजुर (32) बताया गया है। हफीजुर पूर्वी बर्दवान के एक किसान परिवार से है और कॉलेज में पढ़ाता है। युवक ने विश्व भारती से फारसी भाषा में पीएचडी है और बिहार के मुजफ्फरपुर में एक कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर है। उसका 10 मार्च को ही बीरभूम के तारापीठ की अजीजा खातून (24) से निकाह हुआ है।

11 मार्च को अपने निकाह के रिसेप्शन के दौरान उसने मेहमानों को प्लेकार्ड बांटकर भाजपा के खिलाफ कृषि कानून की वापसी की मांग को लेकर दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन की याद दिलाई। एक मेहमान ने तो कहा कि रिसेप्शन में इस तरह की अपील ने कई लोगों को छुआ।

द टेलिग्राफ अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, जोड़े ने रिसेप्शन के दौरान संविधान की प्रस्तावना को भी पढ़ा। साथ ही उन्होंने मेहमानों को प्लेकार्ड दिए, जिनमें लिखा था- भाजपा के एकतियो वोट नोए यानी भाजपा को एक भी वोट नहीं देना है। हफीजुर ने इस मौके पर कहा, “चूंकि मतदान की तारीखें नजदीक हैं, इसलिए मैं अपने रिसेप्शन को ही भाजपा के खिलाफ अभियान के लिए इस्तेमाल करना चाहता था।”

हफीजुर ने बताया कि उसके परिवार के पास गलसी में 20 एकड़ जमीन है। उसके लिए परिवार को भाजपा के विरोध के लिए मनाना बिल्कुल आसान नहीं रहा। हालांकि, हफीजुर का कहना है कि किसान आंदोलन हम सबके लिए ज्यादा जरूरी है। उसने मेहमानों से अपील की है कि वे निकाह में मिले प्लेकार्ड को अपने इलाकों में लगाएं।

पत्नी ने भी दिया साथ: रिसेप्शन में जोड़े को प्लेकार्ड लेकर भाजपा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते देख कई मेहमानों ने आश्चर्य जाहिर किया। हालांकि, बाद में किसान आंदोलन के खातिर बाकियों ने भी उनसे प्लेकार्ड की मांग की। हफीजुर के साथ निकाह करने वाली अजीजा, जो कि इस वक्त बर्दवान यूनिवर्सिटी से एजुकेशन में ग्रैजुएशन की पढ़ाई कर रही हैं, ने कहा कि जब उनके पति ने उन्हें भाजपा के विरोध की योजना बताई तो वे इससे अभिभूत हो गईं। अजीजा ने रिसेप्शन में आई महिलाओं से भाजपा शासित प्रदेशों में महिलाओं की असुरक्षा के मुद्दे को उठाने की अपील की।

Next Stories
1 बिहार विधानसभा में जमकर बवाल, आ गई मारपीट की नौबत, पटक दी टेबल
2 BJP का मिशन पंचायत चुनाव, 58 हजार गांवों में पार्टी करेगी ‘जनसंवाद’
3 तमिलनाडु चुनाव: DMK का घोषणा-पत्र जारी, पेट्रोल-डीजल और LPG सिलेंडर सस्ता करने के साथ दर्जनों वादे
यह पढ़ा क्या?
X