ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल: तृणमूल नेताओं के साथ पुलिसवालों ने दिया पोज, कैमरे को दिखाया विक्ट्री साइन

इस वीडियो को तृणमूल कांग्रेस के विधायक खोगेश्वर रॉय ने शेयर किया है। वीडियो में पुलिस वालों के साथ पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में जलपाईगुड़ी से टीएमसी के जीते हुए जिला परिषद उम्मीदवार लवली परवीन और कुछ अन्य टीएमसी नेता भी नजर आ रहे हैं।

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी (फोटो सोर्स -PTI)

इधर पश्चिम बंगाल से एक तस्वीर सामने आई है। इस तस्वीर में कुछ पुलिसवाले तृणमूल नेताओं के साथ विक्ट्री का पोज देते नजर आ रहे हैं। कहा जा रहा है कि इस तस्वीर में जो पुलिस वाले नजर आ रहे हैं उसमें राजगंज थाना के इंचार्ज, डीएसपी राजवी भट्टाचार्य, राजगंज थाना के सब इंस्पेक्टर शामिल हैं। सभी पुलिसवाले कैमरे के सामने (v) का पोज दे रहे हैं। इस वीडियो को तृणमूल कांग्रेस के विधायक खोगेश्वर रॉय ने शेयर किया है। वीडियो में पुलिस वालों के साथ पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में जलपाईगुड़ी से टीएमसी के जीते हुए जिला परिषद उम्मीदवार लवली परवीन और कुछ अन्य टीएमसी नेता भी नजर आ रहे हैं।

दरअसल पश्चिम बंगाल में हाल ही में पंचायत चुनाव खत्म हुए हैं। इस चुनाव में टीएमसी उम्मीदवारों ने भारी संख्या में जीत दर्ज की है। चुनाव से पहले नामांकन और चुनाव के वक्त भी पश्चिम बंगाल के अलग-अलग हिस्सों में जबरदस्त हिंसा हुई थी। पुलिस पर आरोप लगे थे कि वो इस चुनाव में हिंसा फैलाने वाले टीएमसी कार्यकर्ताओं पर सही तरीके से कार्रवाई नहीं कर रही है। चुनाव में पुलिस और टीएमसी नेताओं के बीच गठजोड़ के आरोप लगने के बाद अब टीएमसी के जीते हुए उम्मीदवारों और कुछ अन्य नेताओं के साथ विक्ट्री का साइन देते कुछ पुलिसवालों का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में 14 मई को पंचायत चुनाव हुए थे। तृणमूल कांग्रेस ने इस चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें हासिल की थीं। टीएमसी ने ग्राम पंचायत और जिला परिषद में शानदार प्रदर्शन किया था। राज्य में टीएमसी के मुख्य प्रतिद्ंवदी के तौर पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उभरी जबकि माकपा तीसरे स्थान पर रही। राज्य की सत्ता में दशकों तक रही वामपंथी पार्टी का सुपड़ा साफ हो गया था।

भाजपा ने माओवाद प्रभावित पुरुलिया और झारग्राम जिलों में भी जबरदस्त सफलता हासिल की थी। जिला परिषद की 571 सीटों में से वाम मोर्चा को सिर्फ 1 सीट मिली थी जबकि टीएमसी को 544 और भाजपा को 22 सीटें मिली थीं। चुनाव के दौरान 568 केंद्रों पर हिंसा की शिकायतें मिली थीं। विभिन्न क्षेत्रों में हुए हिंसा में करीब 12 लोगों की जान चली गई थी और 40 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App