West Bengal CM mamata banerjee observe fast on friday for santoshi mata and tries to control her weight - शुक्रवार को संतोषी मां का व्रत रखती हैं ममता बनर्जी, मंगल को नहीं खातीं नॉनवेज - Jansatta
ताज़ा खबर
 

शुक्रवार को संतोषी मां का व्रत रखती हैं ममता बनर्जी, मंगल को नहीं खातीं नॉनवेज

ममता के इंटरव्यू का यह वीडियो इस वक्त सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में ममता यह कहते दिख रही हैं कि हर कोई अपने वजन को नियंत्रित कर सकता है, आज के समय में हर कोई यह कर रहा है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ममता बनर्जी (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ममता बनर्जी हर शुक्रवार को संतोषी मां का व्रत रखती हैं। एक टीवी चैनल पर ममता बनर्जी ने अपनी फिटनेस का सीक्रेट शेयर करते हुए कहा है कि वह अपने वजन को नियंत्रित रखने की पूरी कोशिश करती हैं। ममता के इंटरव्यू का यह वीडियो इस वक्त सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में ममता यह कहते दिख रही हैं कि हर कोई अपने वजन को नियंत्रित कर सकता है, आज के समय में हर कोई यह कर रहा है।

उन्होंने कहा, ‘मैं अपने वजन को नियंत्रित करने की कोशिश करती हूं। मुझे जब भी ऐसा महसूस होता है कि मेरा वजन बढ़ रहा है, मैं नियंत्रित करती हूं। साथ ही हर हफ्ते शुक्रवार को मैं संतोषी मां का व्रत रखती हूं। शुक्रवार को अन्य पूजा भी होती हैं, उसके लिए भी व्रत रखती हूं। शुक्रवार को मैं मीठा नहीं खाती। इसके अलावा मंगलवार को मैं नॉनवेज नहीं खाती। वहीं रविवार को अंडा और चावल खाती हूं, यह रविवार का मेरा खाना होता है। बाकी दिन मैं और भी चीजें खाती हूं। मैं पैदल चलती भी काफी ज्यादा हूं। चलने से आप तनावमुक्त रहते हैं और वजन भी नियंत्रित रहता है।

इसके अलावा बनर्जी ने न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान यह जानकारी दी है कि वह इस साल सितंबर महीने में शिकागो जा रही हैं। उन्होंने कहा, ‘इस साल मुझे एक प्रोग्राम में शामिल होने शिकागो जाना है। स्वामी विवेकानंद द्वारा शिकागो में दिए गए ऐतिहासिक भाषण के 125 साल पूरे होने के अवसर पर मैं जा रही हूं। मैं बंगाल के लिए बहुत गर्व महसूस करती हूं। आज से 125 साल पहले विवेकानंद जी ने शिकागो में दुनिया को संबोधित करते हुए ऐतिहासिक भाषण दिया था। मुझे रामकृष्ण मिशन के द्वारा आमंत्रित किया गया है, विवेकानंद जी के लिए सम्मान व्यक्त करने के लिए मैं जा रही हूं। नहीं तो मुझे इससे पहले भी कई देश इनवाइट कर चुके हैं, लेकिन मैं नहीं जाती। मुझे जाने का समय नहीं मिलता।’

रामनवमी के दौरान हुई हिंसा पर ममता बनर्जी ने कहा कि वह रामनवमी मनाती हैं, लेकिन वह रैलियों में तलवार चलाने की इजाजत नहीं दे सकतीं। उन्होंने कहा, ‘हम लोग खुद रामनवमी मनाते हैं, हमने कब बसंती पूजा नहीं मनाई या अन्नपूर्णा पूजा नहीं की या गणपति पूजा नहीं की या फिर हनुमान पूजा? हमारी मुख्य संस्कृति दुर्गा पूजा और काली पूजा करने की है, लेकिन हम बाकी पूजा भी करते हैं। इस बार जिस तरह की रामनवमी मनाई गई, वैसी हमने पहले कभी नहीं देखी थी, इस बार तलवार, बम, बंदूक सबको रैलियों में शामिल किया गया।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App