ताज़ा खबर
 

इस्लामी आतंकी हैं ममता बनर्जी, योगी के मंत्री का बयान- बांग्लादेश के इशारे पर काम कर रहीं दीदी

उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य राज्य मंत्री ने कहा, 'ममता बनर्जी का भारतीयता में कोई विश्वास नहीं है। वह इस्लामी आतंकवादी हैं।'

Author नई दिल्ली | January 18, 2021 8:38 AM
WEST Bengal assembly elections, Mamata Banerjee, Mamata Banerjee birthday, senior Congress leader Anand Sharma, DMK leader Kanimozhi, BJP veteran Murli Manohar Joshi, former UP chief minister Kalyan Singh,पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। (file)

उत्तर प्रदेश के मंत्री आनन्द स्वरूप शुक्ला ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को रविवार को ‘इस्लामी आतंकवादी’ करार दिया और कहा कि बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद बनर्जी को बंग्लादेश में शरण लेनी पड़ेगी। उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य राज्य मंत्री ने कहा, ‘ममता बनर्जी का भारतीयता में कोई विश्वास नहीं है। वह इस्लामी आतंकवादी हैं और उन्होंने पश्चिम बंगाल में हिन्दू देवी-देवताओं को अपमानित करने और मंदिरों को तोड़ने का कार्य किया है। वह बांग्लादेश के इशारे पर चल रही हैं।’

उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की बुरी तरह से पराजय होगी तथा चुनाव के बाद उन्हें बांग्लादेश में शरण लेनी पड़ेगी।’ शुक्ला ने कहा कि ‘भारत माता की जय’ और ‘वन्दे मातरम’ बोलने वाले मुसलमानों का ही भारत में सम्मान होगा। एकअन्य मामले में भाजपा ने टीएमसी के कई कार्यकर्ताओं पर कोरोना वायरस का टीका लगवाने का आरोप भी लगाया जो स्वास्थ्य कर्मियों और अग्रिम पंक्ति के कर्मियों के लिए था। इस वजह से राज्य में टीके की खुराकें कम पड़ गईं।

उल्लेखनीय है कि पूर्व बर्द्धमान जिले में दो विधायकों समेत कई टीएमसी नेताओं को शनिवार को टीका लगाया गया है। शनिवार को ही कोरोना वायरस के खिलाफ राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था।

इस पर प्रदेश भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने कहा, ‘केंद्र सरकार ने जो टीके भेजे थे, वे स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस कर्मियों और अग्रिम पंक्ति के अन्य कर्मियों के लिए थे जो महामारी में समाज की सेवा कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘केंद्र सरकार ने देशभर में करीब साढ़े तीन करोड़ शीशियां भेजी हैं। ये खुराकें राजनीतिक नेताओं के लिए नहीं थी।’

घोष ने पत्रकारों से कहा, ‘अगर टीका टीएमसी नेताओं को लगाया गया है तो (खुराकों की) कमी पड़ेगी।’ उन्होंने कहा कि टीएमसी के कुछ नेताओं को अपनी जिंदगी का इतना डर है कि वे नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार का लक्ष्य पहले चरण में तीन करोड़ से ज्यादा स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम मोर्चे पर डटे कर्मियों को मुफ्त टीका लगाने का है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने राज्य में टीकाकरण अभियान शुरू करने के लिए कोविड-19 टीके की “अपर्याप्त आपूर्ति” करने पर शनिवार को नाखुशी जताई थी।

Next Stories
1 पश्चिम बंगाल चुनाव में उतरेगी शिवसेना- संजय राउत का ऐलान, बीजेपी को हो सकती है मुश्किल
2 दुनिया के राष्ट्राध्यक्षों ने पहला टीका खुद लगवाया, पर 56 इंची मोदी क्यों डर रहे- डिबेट में बोले सलमान निजामी तो मिला जवाब
3 बिहार: शाहनवाज के टिकट पर सियासी हलकों में चर्चा- क्या पार्टी में घटाया जा रहा हुसैन का कद या राज्य में बीजेपी का मुस्लिम चेहरा पेश करने का प्रयास!
ये पढ़ा क्या?
X