ताज़ा खबर
 

बीजेपी, कांग्रेस और सीपीएम के नेता टीएमसी में शामिल, 15 अगस्‍त से आंदोलन करेंगी ममता

बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सदस्य चंदन मित्रा, माकपा के पूर्व सांसद मोइनुल हसन, कांग्रेस की सबीना यास्मीन और मिजोरम के महाधिवक्ता बिश्वजीत देब ने TMC का दामन थाम लिया है। TMC प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद इसकी जानकारी दी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फाइल फोटो- पीटीआई)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार (21 जुलाई) को कोलकाता में शहीद दिवस के मौके पर वार्षिक रैली को संबोधित किया। इसमें हजारों की तादाद में TMC के कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। इस मौके पर ममता ने एक ओर जहां शक्ति प्रदर्शन किया, वहीं दूसरी ओर विपक्षी दलों के कई नेताओं ने टीएमसी का दामन थामा। इनमें से बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सदस्य और वरिष्ठ पत्रकार चंदन मित्रा भी शामिल हैं। मित्रा के अलावा माकपा के पूर्व सांसद मोइनुल हसन, कांग्रेस की सबीना यास्मीन और मिजोरम के महाधिवक्ता बिश्वजीत देब भी तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। TMC प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता में रैली के दौरान खुद इसकी जानकारी दी। चंदन मित्र के टीएमसी में जाने की अटकलें काफी पहले से चल रही थीं।

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों से ठीक पहले प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं के टीएमसी में शामिल होने से पार्टी को पश्चिम बंगाल के साथ ही राष्ट्रीय राजनीति में भी अपनी पहुंच बढ़ाने में मदद मिल सकती है। बीजेपी बंगाल के साथ ही पूर्वोत्तर राज्यों में आक्रामक तरीके से अपना विस्तार कर रही है। ऐसे में सबसे ज्यादा नुकसान पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी को ही उठाना पड़ सकता है। हाल में संपन्न पंचायत चुनावों में माकपा और कांग्रेस जैसे दलों को पीछे छोड़ते हुए बीजेपी तृणमूल के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर सामने आई थी। इससे ममता बनर्जी की राजनीतिक समस्याएं बढ़ गई थीं।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ‘बीजेपी हटाओ, देश बचाओ’ अभियान: बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और सीएम ममता बनर्जी के खिलाफ आक्रामक तरीके से अभियान छेड़ रखा है। अब ममता की पार्टी भी इसका जवाब देने की तैयारी में जुटी है। इसके तहत तृणमूल कांग्रेस स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 15 अगस्त से ‘बीजेपी हटाओ, देश बचाओ’ अभियान की शुरुआत करने जा रही है। सीएम ममता बनर्जी ने खुद इसकी घोषणा की है। उन्होंने पीएम मोदी की रैली में पंडाल गिरने का उल्लेख करते हुए तंज कसा कि जो पंडाल नहीं बना सकते वे देश क्या बनाएंगे? इस अभियान के तहत राज्य भर में रैली करने की योजना है। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में रैलियां की थीं। बीजेपी के दोनों शीर्ष नेताओं ने सीधे तौर पर ममता पर हमला बोला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App