scorecardresearch

कोलकाता: हिंदू महासभा ने दुर्गा पूजा पंडाल में गांधी को ‘असुर’ के रूप में दिखाया, बढ़ा विवाद

Durga Puja: इस मामले पर जमकर सियासत होने लगी है। तृणमूल कांग्रेस के प्रदेश महासचिव कुणाल घोष ने इसे ‘अभद्रता की पराकाष्ठा’ करार दिया है।

कोलकाता: हिंदू महासभा ने दुर्गा पूजा पंडाल में गांधी को ‘असुर’ के रूप में दिखाया, बढ़ा विवाद
दुर्गा पूजा पंडाल में रखी गई प्रतिमा (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

Durga Puja: अखिल भारतीय हिंदू महासभा द्वारा आयोजित कोलकाता में दुर्गा पूजा के दौरान महिषासुर की जगह महात्मा गांधी की तरह दिखने वाली प्रतिमा पर विवाद पैदा हो गया। विवाद बढ़ने पर आयोजकों का कहना था कि यह समानता महज एक संयोग थी। हालांकि, उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन में महात्मा गांधी की भूमिका के लिए उनकी आलोचना की जानी चाहिए।

पूरे मामले पर अखिल भारतीय हिंदू महासभा की पश्चिम बंगाल प्रदेश इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष चंद्रचूड़ गोस्वामी ने हमारे सहयोगी ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया, “एक सिर पर बिना बालों वाले और चश्मा पहने हुए व्यक्ति गांधी हो, जरूरी नहीं। असुर के हाथों में एक ढाल है। गांधी ने कभी ढाल नहीं रखा। यह संयोग ही है कि हमारा ‘असुर’ जिसका मां दुर्गा संहार कर रही हैं, वह गांधी जैसा दिखता है। कई लोगों ने कहा कि यह गांधी जैसा दिखता है। हालांकि, यह भी सच है कि गांधी की आलोचना होनी चाहिए।”

टीएमसी ने साधा भाजपा पर निशाना

इस मामले पर जमकर सियासत होने लगी है। टीएमसी और कांग्रेस समेत तमाम दलों ने इसकी तीखी आलोचना की है। तृणमूल कांग्रेस के प्रदेश महासचिव कुणाल घोष ने इसे ‘अभद्रता की पराकाष्ठा’ करार दिया है। कुणाल घोष ने कहा, “यही है बीजेपी का असली चेहरा। बाकी वे जो करते हैं वह ड्रामा है। महात्मा गांधी राष्ट्रपिता हैं, पूरी दुनिया गांधी और उनकी विचारधारा का सम्मान करती है। महात्मा गांधी का ऐसा अपमान स्वीकार नहीं किया जा सकता। हम इसका पुरजोर विरोध करते हैं।”

वहीं, दुर्गा पूजा पंडाल में गांधी को ‘असुर’ के रूप में दिखाए जाने को लेकर सीपीआई-एम ने भाजपा और संघ पर निशाना साधा। सीपीआई-एम केंद्रीय समिति के सदस्य समिक लाहिरी ने कहा, “यही भाजपा है और संघ परिवार है। वे केवल देश को बांटना जानते हैं। वे ब्रिटिश विरोधी ताकतों को ‘असुर’ और ब्रिटिश को मां दुर्गा मानते हैं।” उधर, बीजेपी प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा, “हम ऐसी चीजों का समर्थन नहीं करते हैं. ऐसी चीजें बिल्कुल अस्वीकार्य हैं और प्रशासन को आयोजकों के खिलाफ तत्काल कदम उठाने चाहिए।”

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 03-10-2022 at 07:48:34 am
अपडेट