ताज़ा खबर
 

बंगालः नहीं कहा ‘जय श्रीराम’ तो 10 साल के बच्चे की BJP कार्यकर्ता ने कर दी पिटाई

बकौल चश्मदीद, "उसने बच्चे को धमकाना शुरू कर दिया और कहा कि जय श्री राम का नारा लगाओ। लड़के ने वैसा करने से मना कर दिया।" फिर क्या था, शर्मा को प्रमाणिक तब तक पीटता रहा, जब तक उसे स्थानीय लोग बचाने नहीं आए।

Crime Scene, BJP, Nadiaतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

पश्चिम बंगाल के नदिया जिला स्थित फूलिया में 10 साल के एक लड़के ने जय श्री राम का नारा लगाने से मना कर दिया, तो इस पर बीजेपी के कार्यकर्ता ने उसकी कथित तौर पर पिटाई कर दी। यह घटना सोमवार दोपहर की है, जब लड़का पार्टी कार्यकर्ता की चाय की दुकान के पास से गुजर रहा था।

अंग्रेजी अखबार ‘दि टेलीग्राफ’ की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित चौथी कक्षा में पढ़ने वाला महादेव शर्मा है। बताया गया कि घटना में उसको कई चोटें आईं, जिसके बाद उसे रानाघाट सबडिविजलन अस्पताल में भर्ती कराया गया। ताजा घटना को लेकर स्थानीय लोगों में खासा नाराजगी थी और शायद यही वजह थी कि उन्होंने आरोपी चाय का स्टॉल चलाने वाले महादेव प्रमाणिक की पिटाई कर दी थी। प्रदर्शनकारियों ने इसके अलावा एनएच 12 घेर कर प्रमाणिक की गिरफ्तारी की मांग भी उठाई।

मामले में दखल देते हुए पुलिस ने जांच शुरू की और एक घंटे बाद हाईवे पर लगी प्रदर्शनकारियों के जमावड़े को हटवाया। पुलिस ने लोगों को आश्वासन दिया कि आरोपी गिरफ्तार किया जाएगा। हालांकि, सूत्रों ने अखबार को बताया कि प्रमाणिक फरार हो चुका है और वह बीजेपी की महिला इकाई की स्थानीय नेत्री मिठू प्रमाणिक का पति है।

पुलिस के मुताबिक, पीड़ित लड़का एक बढ़ई (लड़की का काम करने वाले) का बेटा है, जो कि तृणमूल कांग्रेस का समर्थक है। एक चश्मदीद के हवाले से अखबार ने कहा, “लड़का प्रमाणिक के टी स्टॉल के पास से गुजर रहा था। वह अकेला था, तभी प्रमाणिक ने उसे बुलाया और उसके पिता के तृणमूल के प्रति झुकाव को लेकर उल्टा-सीधा कहने लगा।” उसने आगे बताया- 17 अप्रैल को यहां चुनावों के दौरान बच्चे के पिता की हालिया “सक्रिय भागीदारी” से विशेष रूप से प्रामणिक को बहुत बुरा लग रहा था।

बकौल चश्मदीद, “उसने बच्चे को धमकाना शुरू कर दिया और कहा कि जय श्री राम का नारा लगाओ। लड़के ने वैसा करने से मना कर दिया।” फिर क्या था, शर्मा को प्रमाणिक तब तक पीटता रहा, जब तक उसे स्थानीय लोग बचाने नहीं आए।

अस्पताल में भर्ती पीड़ित लड़का अभी भी घटना से सदमे में है। उसके मुताबिक, प्रमाणिक ने जय श्री राम का नारा लगवाने के लिए जोर-जबरदस्ती की थी। साथ ही मेरे पिता को गालियां भी दी थीं। मैंने जब इन्कार कर दिया, तो उसने मुझे पीटना और थप्पड़ मारना शुरू कर दिया और फिर उसने मुझे लातें मारीं। किस्मत की बात थी कि स्थानीय आनन-फानन आए और मुझे बचाया।

अस्पताल के सूत्रों का कहना है कि लड़के के चेहरे, सिर और पीठ पर चोटें आई हैं और उसे सीटी स्कैन कराने के लिए कहा गया है। तृणमूल कांग्रेस के यूथ विंग के नेता पीटर मुखर्जी का कहना है, “इस घटना ने दर्शाया है कि बीजेपी कितनी क्रूर हो सकती है। यहां तक कि उन्होंने उस बच्चे को भी न बख्शा, जो अपनी मां को खो चुका है।” बता दें कि हाल ही में महादेव की मां का निधन हो गया था।

उधर, बीजेपी महिला मोर्चा की नेत्री और आरोपी की पत्नी मिठू ने हमले की बात मानी, पर उन्होंने उल्टा लड़के पर उकसाने का आरोप लगा दिया। कहा- लड़के ने दुकान पर उठाकर पत्थर फेंका था और कांच के कंटेनर तोड़ दिए थे, जिसके बाद पति ने आपा खोते हुए उसे पीटा था। टीएमसी इस घटना को लेकर हमारी छवि खराब करना चाहती है।

Next Stories
1 पश्चिम बंगाल चुनावः नोबल विजेता का तंज- आर्थिक, सामाजिक न्याय मोर्चे पर फेल रही मोदी सरकार, सत्ता बदली तो नुकसान
2 लॉकडाउन से पहले दिल्ली में शराब की दुकानों पर लंबी कतार, नियम तार-तार! खरीदने पहुंची महिला बोली- दवा फायदा न करेगी, पेग असर करेगा
3 covid 19: कोरोना केंद्र पर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, वॉर्ड बॉय अरेस्ट
आज का राशिफल
X