ताज़ा खबर
 

बंगाल: चोटिल CM ममता पर BJP नेताओं का कटाक्ष, कोलकाता में निकाली व्हीलचेयर रैली

नंदीग्राम में 10 मार्च को नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद बनर्जी घायल हो गई थीं।

Author नई दिल्ली | March 17, 2021 11:05 PM
national news india newsभाजपा की रैली के दौरान पार्टी के पांच सदस्य व्हीलचेयर पर बैठे नजर आए। (twitter/BJP4Bengal)

भाजपा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर प्रत्यक्ष तौर पर कटाक्ष करते हुए बुधवार को व्हीलचेयर रैली निकाली। बनर्जी नंदीग्राम में घायल होने के बाद से व्हीलचेयर पर बैठकर चुनाव प्रचार कर रही हैं। भाजपा की रैली के दौरान पार्टी के पांच सदस्य व्हीलचेयर पर बैठे नजर आए। रैली रविन्द्र सदन से हाजरा क्रासिंग के बीच लगभग 2.5 किलोमीटर के हिस्से में निकाली गई। इस दौरान भाजपा ने बंगाल में अपने करीब 130 कार्यकर्ताओं की कथित हत्या के खिलाफ प्रदर्शन किया। हाजरा क्रासिंग शहर में मुख्यमंत्री बनर्जी के आवास के निकट है।

नंदीग्राम में 10 मार्च को नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद बनर्जी घायल हो गई थीं। तब से वह व्हीलचेयर पर बैठकर चुनाव प्रचार कर रही हैं। उन्होंने दावा किया था कि चार-पांच लोगों ने उनपर हमला किया। भाजपा के एक कार्यकर्ता ने कहा, ‘बंगाल में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। राज्य में हमारी पार्टी के कम से कम 130 कार्यकर्ताओं की हत्या की जा चुकी है और पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। हम इसकी निंदा करते हैं और इसके विरोध में हमने रैली निकाली है।’

इधर तृणमूल कांग्रेस ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ नंदीग्राम सीट पर चुनाव लड़ रहे भाजपा उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी का नामांकन रद्द करने की बुधवार को मांग की। पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल ने आरोप लगाया है कि शुभेंदु का नाम हल्दिया विधानसभा क्षेत्र की मतदाता सूची में भी नजर आ रहा है। कभी ममता के करीबी सहयोगी रहे अधिकारी द्वारा नंदीग्राम सीट से तृणमूल कांग्रेस प्रमुख का नामांकन रद्द करने की मांग किए जाने के महज कुछ दिनों बाद यह घटनाक्रम हुआ है।

तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ ब्रायन ने नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र के मतदाता पंजीकरण अधिकारी (ईआरओ) को लिखे एक पत्र में आरोप लगाया है कि अधिकारी का नाम नंदीग्राम और हल्दिया, दोनों विधानसभा क्षेत्रों की मतदाता सूची में नजर आ रहा है। उन्होंने कहा कि जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 17 के मुताबिक इसकी अनुमति नहीं है। यह धारा इस बात का जिक्र करती है कि किसी भी व्यक्ति का नाम एक से अधिक निर्वाचन क्षेत्र में पंजीकृत नहीं हो सकता है। मालूम हो कि पश्चिम बंगाल की 294 सदस्यीय विधानसभा के लिए आठ चरणों में चुनाव होने हैं। पहले चरण में 27 मार्च को मतदान होगा।

Next Stories
1 यूपी में पुजारी की हत्या, कुल्हाड़ी से जान लेने का शक; मंदिर में मिली शराब की बोतलें
2 भारतीय वायुसेना का मिग-21 विमान क्रैश, ग्रुप कैप्टन शहीद, जांच के आदेश दिए गए
3 बंगाल: मतदान से पहले ED की बड़ी कार्रवाई, TMC यूथ लीडर का भाई गिरफ्तार; BJP नेता का शव बरामद
ये पढ़ा क्या?
X